पाकिस्तान की तरफ से भारत पर आरोप लगाते हुए कहा गया था कि, भारत की तरफ से उनके देश की सीमा में एक सुपरसोनिक मिसाइल दागी गई, ये मिसाइल पाकिस्तान की सीमा के करीब 124 किमी अंदर गिरी. जिसे पाकिस्तानी एयर डिफेंस सिस्टम ने ट्रेस किया था. अब भारत की तरफ से इस मामले को लेकर जवाब दिया गया है. जिसमें भारत ने माना है कि मिसाइल दागी गई थी. 

रक्षा मंत्रालय ने जताया खेद
भारतीय रक्षा मंत्रालय ने पाकिस्तान में गिरी मिसाइल पर आधिकारिक जवाब देते हुए कहा कि, मेंटेनेंस के दौरान मैलफंक्शन (गड़बड़ी) के कारण मिसाइल पाकिस्तान में जा गिरी थी. हमें इस घटना पर अफसोस है. मामले की उच्च स्तरीय जांच के आदेश दे दिए गए हैं. यानी भारत ने पाकिस्तान को बताया है कि गलती से ये मिसाइल पाकिस्तान की सीमा पर फायर हो गई थी. 

मिसाइल में नहीं था कोई विस्फोटक
दरअसल पाकिस्तान का आरोप था कि 9 मार्च को भारत की तरफ से एक ‘सुपरसोनिक प्रोजेक्टाइल’ (फ्लाईंग ओब्जेक्ट) फायर किया गया था. पाकिस्तान ने आशंका जताई थी कि ये एक सुपरसोनिक मिसाइल थी जो हरियाणा के सिरसा से दागी गई थी. सिरसा में भारतीय वायुसेना का एक अहम एयर बेस है. पाकिस्तान की एयर-डिफेंस ने इसे ट्रैक किया था. खुद पाकिस्तानी सेना की मीडिया विंग, आईएसपीआर के डीजी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया था कि, ये मिसाइल बिना वॉर-हेड की थी (यानी इसमे बारूद इत्यादि नहीं था और अभ्यास के लिए फायर की गई थी) और राजस्थान के महाजन फील्ड फायरिंग रेंज में जाकर गिरनी थी, लेकिन ये पाकिस्तान के मिया चन्नू इलाके में जाकर गिर गई थी. पाकिस्तान का आरोप है कि इससे कोई जानमाल का तो कोई नुकसान नहीं हुआ, लेकिन ये इंटरनेशनल एविएशन सेफ्टी के प्रतिकूल थी और इससे कोई बड़ा हादसा हो सकता था.

बता दें कि, पाकिस्तान के मियां चन्नू में जहां ये सुपरसोनिक मिसाइल जाकर गिरी थी, वो इलाका आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद के मुखिया मसूद अजहर के बहावलपुर स्थित घर से महज़ 160 किलोमीटर की दूरी पर है.

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

journalist | chief of editor and founder at reportlook media network

Leave a comment