शामली: उत्तर प्रदेश के जिले शामली में जलालाबाद कस्बे से एक अनोखा मामला सामने आया है। दिल्ली-सहारनपुर हाईवे किनारे पर प्रदीप की मीट की दुकान है। लेकिन वो मीट को बेचने के लिए एक अनोखा ही तरीका अपना रहा था।

काफी समय से प्रदीप की मुर्गा मीट की दुकान पर आधार कार्ड की छाया प्रति यानी फोटो कॉपी लेकर व ओरिजिनल आधार कार्ड देखकर मुर्गें का मीट फ्री में दिया जा रहा है।

मीट बेचने वाले दोनों युवक दिल्ली से आए 
मुर्गा मीट की दुकान का मालिक प्रदीप आधार कार्ड देखकर लोगों को फ्री में मीट बेच रहा था। जिसकी जानकारी गुरुवार को पुलिस चौकी प्रभारी को मिली। गुरुवार यानी 21 अप्रैल को पुलिस चौकी प्रभारी को सूचना मिली की दिल्ली से आए दो युवक आधार कार्ड लेकर मीट दुकान पर फर्जी तरीके से किसी योजना में आधार कार्ड लगा रहे हैं।

खाताधारकों से पैसे हो सकते हस्तांतरित
प्रदीप की मुर्गा मीट की दुकान तो है लेकिन यह दिल्ली से आया है। प्रदीप के साथ उसका एक साथी भी है। पुलिस को जब इसकी सूचना मिली कि अवैध रूप से बिक्री कर दो युवक आधार कार्ड देखकर और उसकी फोटो कॉपी लेकर मीट बेच रहे है तो पुलिस भी वहां पहुंच गई। युवक फर्जी तरीके से किसी योजना में आधार कार्ड लगा रहे है। जिसकी वजह से आने वाले समय में खाताधारकों के खाते से धन हस्तांतरित भी हो सकता है। आधार कार्ड का लिंक बैंक खातों में हो रहा है। 

दोपहर बाद पुलिस चौकी पर पहुंची साइबर टीम
गुरुवार को पुलिस चौकी प्रभारी को सूचना मिली कि दिल्ली से आए दो युवक आधार कार्ड लेकर मीट दुकान पर फर्जी तरीके से किसी योजना में आधार कार्ड लगा रहे हैं। ऐसी शिकायत मिलने पर चौकी प्रभारी विजय त्यागी दोनों युवकों को पूछताछ के लिए पुलिस चौकी ले गए। इसी बीच पुलिस चौकी पर दोनों युवकों को छुड़ाने के लिए कुछ लोग काफी देर तक सक्रिय भी रहे। करीब दोपहर के बाद पुलिस चौकी पर जिले की साइबर क्राइम टीम भी पहुंच गई। टीम के पहुंचने के बाद दोनों युवकों से पूछताछ कर रही है। जिसके बाद साइबर क्राइम टीम से जुड़े निरीक्षकों ने बताया कि जांच के बाद ही पूरा मामला पता चल सकेगा।

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

journalist | chief of editor and founder at reportlook media network

Leave a comment