मुस्लिम आरक्षण की मांग को लेकर असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) की पार्टी AIMIM का मोर्चा औरंगाबाद से मुंबई की ओर रवाना हुआ है. एमआईएम सांसद इम्तियाज जलील (Imtiyaz Jaleel) के नेतृत्व में 100 से अधिक गाड़ियों का काफिला मुंबई की ओर रवाना हुआ है. जबकि मुंबई में ओमीक्रॉन के खतरे को देखते हुए 11 और 12 दिसंबर को धारा 144 लागू है.

इसके तहत राजनीतिक पार्टियों द्वारा रैलियां निकालने और कार्यक्रम करने पर पाबंदी लगाई गई है. महाराष्ट्र के गृहमंत्री दिलीप वलसे पाटील (Dilip Walse Patil) ने अपील की है कि पुलिस आदेश  का उल्लंघन ना करें. इस मोर्चा को ध्यान में रखते हुए मुंबई की सीमावर्ती इलाकों पर पुलिस की बंदोबस्ती बढ़ा दी गई. जगह-जगह बैरीकेटिंग की गई है. दोपहर तक यह मोर्चा मुंबई में दाखिल होगा.

इस बीच एमआईएम द्वारा निकाले गए इस मोर्चे को अब तक दो जगहों पर रोकने की कोशिश हुई. औरंगाबाद और अहमदनगर में प्रशासन द्वारा मोर्चे को रोकने की कोशिश की गई. लेकिन एमआईएम के कार्यकर्ता नहीं माने और लगातार मुंबई की तरफ बढ़ रहे हैं.

मोर्चे को मुंबई बॉर्डर पर रोकने की कोशिश करेगी पुलिस

एमआईएम सांसद इम्तियाज जलील के नेतृत्व में सुबह सात बजे औरंगाबाद के आमखास मैदान से यह मोर्चा मुंबई की ओर रवाना हुआ. अहमदनगर के बाईपास रोड से होते हुए फिलहाल यह पुणे की ओर बढ़ रहा है. मुंबई में धारा 144 लागू होने की वजह से संभावना है कि पुलिस द्व्रारा मुंबई के बाहर ही मोर्चे को रोकने की कोशिश की जाएगी.

औरंगाबाद शहर और जिले में मोर्चे को रोकने की कोशिश की गई लेकिन 100 से अधिक कारों का यह काफिला आगे बढ़ गया. इसके बाद अहमदनगर जिले के नेवासा फाटा में अहमदनगर पुलिस ने भी मुंबई की ओर बढ़ रहे काफिले को रोकने की कोशिश की. थोड़ी चर्चा के बाद काफिले को आगे जाने दिया गया.

बातचीत से मोर्चे को मुंबई में एंट्री से रोकने की कोशिश होगी

इस बीच महाराष्ट्र के गृहमंत्री ने एमआईएम से अपील की है कि पुलिस के आदेश का उल्लंघन ना करें. संभावना जताई जा रही है कि पुलिस कोशिश करेगी कि मुंबई में मोर्चा पहुंचने से पहले मोर्चे के नेताओं से सरकारी प्रतिनिधियों की बातचीत करवाई जाए. इस तरह शांतिपूर्वक तरीके से मोर्चे को मुंबई में एंट्री करने से रोक दिया जाए.

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

The world is about to receive just the news it needs. My team and I believe that journalism can change the world and we are on a mission to ensure that this happens.

Leave a comment