मध्य प्रदेश के होशंगाबाद के नर्मदापुरम में जिला मुख्यालय से लगभग 40 किमी दूर स्थित एक 50 साल पुरानी दरगाह में रविवार तड़के अज्ञात लोगों ने तोड़फोड़ की और उसे भगवा रंग से रंग दिया। पुलिस के अनुसार, घटना का पता सुबह करीब छह बजे तब चला जब कुछ स्थानीय युवकों ने दरगाह को भगवा रंग से रंगा देखा और दरवाजा टूटा हुआ पाया।

दरगाह के केयरटेकर अब्दुल सत्तार ने कहा कि सुबह करीब छह बजे गांव के कुछ स्थानीय युवकों ने उन्हें बताया कि दरगाह भगवा रंग से रंगा हुआ है। द इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए सत्तार ने कहा, “ हमने पहुंचने के बाद देखा कि दरगाह के लकड़ी के दरवाजे खुले हुए थे और मारू नदी में फेंक दिए गए थे। मीनार, मकबरे और प्रवेश द्वार को भी भगवा रंग से रंग दिया गया था। इसके अलावा, दरगाह परिसर के अंदर का हैंडपंप भी उखड़ा हुआ था।

ग्रामीणों के अनुसार, राज्य राजमार्ग-22 को अवरुद्ध करने के बाद पुलिस हरकत में आई। इससे पहले उनकी शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं की गई। सेमरिया के पास के शहर माखन नगर से पुलिस और जिला प्रशासन की एक टीम के मौके पर पहुंचने और कार्रवाई का आश्वासन देने के बाद उन्होंने चक्का जाम हटा लिया।

पुलिस के अनुसार आईपीसी की धारा 295 (ए) (धार्मिक भावना को आहत) के तहत केस दर्ज किया गया है। कस्बे में तनाव के बीच, पुलिस को तैनात किया गया और दरगाह को फिर से पेंट किया जा रहा है। इसमें दमकल की दो गाड़ियों को भी लगाया गया है।

माखन नगर पुलिस स्टेशन के टाउन इंस्पेक्टर हेमंत श्रीवास्तव ने कहा, “हमने एक प्राथमिकी दर्ज की है लेकिन हमारी प्राथमिकता पहले दरगाह का मरम्मत कराना है, जो किया जा रहा है। इसके बाद आरोपी को भी गिरफ्तार किया जाएगा। लेकिन प्रथम दृष्टया ऐसा नहीं लगता कि यह कृत्य स्थानीय युवाओं द्वारा किया गया है क्योंकि दोनों समुदायों के लोग यहां शांति से रहते हैं और अतीत में कोई सांप्रदायिक तनाव नहीं रहा है।”

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

journalist | chief of editor and founder at reportlook media network

Leave a comment