दिल्ली से विधायक ‘अमानतुल्लाह खान’ के समर्थन में दुकानें बंद लेकिन ‘केजरीवाल’ ने साधी चुप्पी

व्यापारदिल्ली से विधायक 'अमानतुल्लाह खान' के समर्थन में दुकानें बंद लेकिन 'केजरीवाल' ने साधी चुप्पी

आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्लाह खान (Amantullah Khan) को दक्षिणी दिल्ली के मदनपुर खादर इलाके में चल रहे अतिक्रमण विरोधी अभियान के विरोध में गिरफ्तार किए जाने के एक दिन बाद, ओखला निर्वाचन क्षेत्र में कई दुकानें, जहां से वह चुने गए हैं, पुलिस के खिलाफ अपना विरोध दर्ज कराने के लिए बंद रहीं.

विशेष रूप से, दिल्ली में सत्तारूढ़ AAP सरकार ने अपने नेता की गिरफ्तारी पर टिप्पणी करने से परहेज किया है, इसकी चुप्पी के लिए आलोचना हो रही है.

बता दें, अमानतुल्लाह खान की पत्नी ने शाफिया ने एक पत्र खान के ट्विटर खाते से पोस्ट किया था. उसमें लिखा था कि अमानतुल्लाह खान को जनता की आवाज उठाने के लिए सलाखों के पीछे भेज दिया गया है. मैं ओखला के लोगों से अनुरोध करता हूं कि गिरफ्तारी के विरोध में कल सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक अपनी दुकानें बंद रखें, ताकि हम दमनकारी बीजेपी सरकार को बता सकें कि लोग अपने विधायकों के साथ खड़े हैं,

दिल्ली पुलिस के अनुसार, खान, जिन्होंने दक्षिणी दिल्ली नगर निगम के अतिक्रमण विरोधी अभियान में हस्तक्षेप किया था, को गुरुवार को पांच अन्य लोगों के साथ गिरफ्तार किया गया था.

आप विधायक ने दावा किया था कि मदनपुर खादर इलाके में एक भी अतिक्रमण नहीं है, जहां अभियान चलाया जा रहा है. बुलडोजिंग को लेकर विरोध प्रदर्शन के दौरान पथराव की घटनाओं की सूचना मिलने के बाद उन्हें गिरफ्तार किया गया था.

केजरीवाल की चुप्पी हैरान करने वाली’: कांग्रेस

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने शुक्रवार को कहा कि खान की गिरफ्तारी पर आप की चुप्पी ‘आश्चर्यजनक’ है.

उन्होंने कहा कि आप नेता और उनकी पार्टी की चुप्पी हैरान करने वाली है. केजरीवाल जी ने सीएए और एनआरसी के विषय पर बीजेपी का समर्थन किया, जबकि अमानतुल्लाह खान ने इसका खुलकर विरोध किया.

वहीं, AAP के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने बीजेपी की तानाशाही की निंदा की, जिसके तहत खान को गिरफ्तार किया गया. हालांकि, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और दिल्ली सरकार के प्रतिनिधियों ने इस मुद्दे पर कोई टिप्पणी नहीं की है.

आप विधायक अमानतुल्लाह खान ने अपनी गिरफ्तारी से पहले एक ट्वीट में कहा था कि बीजेपी की ‘बुलडोजर व्यवस्था’ का विरोध कर रहे लोगों पर पुलिस की ओर से लाठीचार्ज असंवैधानिक है. हम बीजेपी की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ हैं. मैं हमेशा लोगों के अधिकारों की आवाज उठाऊंगा, चाहे कितनी भी बार इसके लिए मुझे जेल जाना पड़े.

इस बीच, दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने शुक्रवार को कहा कि बीजेपी की योजना शहर की 70 फीसदी आबादी के घरों को गिराने की है. सिसोदिया ने कहा कि उन्होंने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिखकर उनसे बीजेपी शासित नगर निकाय के तहत अतिक्रमण विरोधी अभियान के दौरान राष्ट्रीय राजधानी में हाल ही में हुए विध्वंस को रोकने का आग्रह किया है.

Check out our other content

Check out other tags:

Most Popular Articles