दिल्ली पुलिस के एक हेड कांस्टेबल को शुक्रवार को टिकरी बॉर्डर पर कृषि कानून प्रदर्शनकारियों द्वारा कथित रूप से पीटे जाने की बात सामने आयी है. दिल्ली पुलिस के अनुसार हेड कांस्टेबल जितेन्द्र राणा एक लापता प्रदर्शनकारी का पोस्टर लगाने के लिए घटनास्थल पर मौजूद थे.

दिल्ली पुलिस ने कहा कि पुलिस कर्मियों को कई टांके आए हैं और इस संबंध में एक अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है. टिकरी सीमा उन विरोध स्थलों में से एक है जहां किसान खेत कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं. तीन नए कानूनों के खिलाफ किसान पिछले साल 26 नवंबर से राष्ट्रीय राजधानी की विभिन्न सीमाओं पर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं.

शुक्रवार को किसान नेता नरेश टिकैत ने कहा ”किसानों का मनोबल नहीं टूटेगा. हम किसानों के दुख, दर्द में साथ है। किसानों को बीच में छोड़कर नहीं जाएंगे. हिंसा में हम विश्वास नहीं करते हैं। हम शांति से आंदोलन चलाते रहेंगे. आंदोलन को सब किसान अपने खर्चे से चला रहे हैं.” केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिहं तोमर ने कहा ”भारत में 86% छोटे व सीमांत किसान हैं।

जिन्हें हर तरह की सहायता के लिए FPO को बढ़ावा दिया जा रहा है. भारत सरकार देश में 10,000 नए FPO बनाने जा रही है। जिनपर 5 साल में 940 मिलियन डॉलर खर्च किए जाएंगे. इससे किसानों को सक्षम बनाया जा सकेगा.”

आज लोकसभा में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा ”सवाल था कि आपने खेती के बजट को 10 हजार करोड़ क्यों कम किया? आपको किसानों की चिंता नहीं है? इसे ठीक से नहीं समझा गया क्योंकि पीएम किसान सम्मान योजना के शुरू होने से लेकर 10.75 करोड़ किसानों के बैंक खातो में 1.15 लाख करोड़ ट्रांसफर किया गया.

उन्होंने कहा ”कांग्रेस क्यों पहले कृषि कानूनों का समर्थन करती थी और अब बदल गई. किसानों को इतना ज्ञान देने वाली कांग्रेस बहुत से राज्यों में चुनाव जीतने के लिए कहती थी कि हम कृषि लोन देंगे लेकिन मध्य प्रदेश में यह लागू नहीं हुआ. कांग्रेस ने वोट लिया और किसानों को गुमराह किया.”

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *