24.1 C
Delhi
Tuesday, November 29, 2022
No menu items!

धार्मिक नफरत भड़काने के लिए सभी को दिखाई गई कश्मीर फाइल्स फिल्म : शरद पवार

- Advertisement -
- Advertisement -

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) प्रमुख शरद पवार ने कहा है कि कश्मीर फाइल्स नाम की फिल्म सभी को धार्मिक नफरत भड़काने के लिए दिखाई गई। हाल ही में कोल्हापुर उत्तर विधानसभा क्षेत्र के उपचुनाव के दौरान फिल्म कश्मीर फाइल्स भाजपा के पक्ष में मतदाताओं को प्रभावित करने के लिए दिखाई गई।

सौभाग्य से कोल्हापुर के लोगों ने इस राजनीति को खारिज कर दिया (जैसा कि कांग्रेस उम्मीदवार की जीत हुई)। उन्होंने कहा कि 1990 के दशक की शुरुआत में जब जम्मू-कश्मीर में उग्रवाद तेज हुआ (जिसके कारण कश्मीरी पंडितों को जबरन निर्वासित किया गया) तब वीपी सिंह प्रधानमंत्री थे और उनकी सरकार को भाजपा का समर्थन प्राप्त था, लेकिन यह तथ्य छिपा हुआ था।

- Advertisement -

अमित शाह दिल्ली को सांप्रदायिक दंगों से बचाने में विफल रहे: पवार

एनसीपी प्रमुख ने कहा कि लोगों के बीच अंदरूनी कलह फैलाने की साजिश है। दिल्ली की सत्ता केजरीवाल के पास है लेकिन गृह मंत्रालय बीजेपी के पास है। जिन लोगों पर यह जिम्मेदारी है, वे इसे ठीक से नहीं निभा पाए। इससे पता चलता है कि देश में अस्थिरता है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह देश की राजधानी दिल्ली को सांप्रदायिक दंगों से बचाने में विफल रहे। पश्चिमी महाराष्ट्र के कोल्हापुर में एनसीपी की एक रैली में बोलते हुए पवार ने जहांगीरपुरी में हुई हिंसा का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि कुछ दिन पहले, दिल्ली सांप्रदायिक तनाव के कारण जल रही थी। दिल्ली राज्य (मुख्यमंत्री) अरविंद केजरीवाल द्वारा नियंत्रित है, लेकिन इसकी पुलिस अमित शाह द्वारा नियंत्रित केंद्रीय गृह मंत्रालय के अधीन आती है। शाह शहर को सांप्रदायिक दंगों से बचाने में विफल रहे। अगर दिल्ली में कुछ होता है, तो दुनिया में संदेश जाता है। दुनिया कल्पना करेगी कि दिल्ली में अशांति है।

उन्होंने हुगली में सांप्रदायिक तनाव को लेकर कर्नाटक की भाजपा सरकार पर भी निशाना साधा। पवार ने कहा कि एक होर्डिंग पर अल्पसंख्यक समुदायों की दुकानों और उनके मालिकों के नाम लिखे हुए थे। उस पर यह भी लिखा था कि लोग ऐसी दुकानों से चीजें न खरीदें। जिन राज्यों में भाजपा सत्ता में है, वहां यह एक आम तस्वीर है।

पवार ने एनसीपी कार्यकर्ताओं से कहा कि हमें इस देश में सत्ता में मौजूद सांप्रदायिक ताकतों को उखाड़ फेंकना होगा। हमें उन युवाओं की समस्याओं का समाधान करना है जो गंभीर रूप से गरीबी में हैं और आम आदमी के बोझ को कम करना है जो दोहरे अंकों की मुद्रास्फीति से जूझ रहे हैं।

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here