महाराष्ट्र के मुंबई के विले पार्ले में कुछ दिन पहले एक ‘हिस्ट्रीशीटर’ दामाद ने अपनी सास को बेरहमी से मौत के घाट उतार दिया। घटना को इतनी नृशंसता से अंजाम दिया गया कि शरीर का अंदर का हिस्सा भी बाहर निकल आया। रिपोर्ट्स के मुताबिक, पहले महिला पर टाइलों से हमला किया गया। उसके बाद चाकू से वार हुआ। और, अंत में उसके प्राइवेट पार्ट में बाँस घुसा दिया गया। इस पूरे मामले में करीब एक हफ्ता पहले पुलिस आईपीसी की धारा 377 और 302 के तहत मुकदमा दर्ज कर चुकी है और आरोपित पकड़ा जा चुका है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, आरोपित की पहचान 42 वर्षीय इकबाल अब्बास शेख के तौर पर हुई है। उस पर मुंबई भर में 28 केस दर्ज हैं। चेन स्नैचिंग जैसे मामले में इकबाल पुणे यरवदा जेल में 3 साल से बंद था। 1 सितंबर को जब वह रिहा हुआ तो वह अपनी 61 वर्षीय सास शमाल श्याम शिगम के घर गया ताकि वह अपनी बीवी लीना और दो बच्चों से मिल सके। हालाँकि, शेख को पता चला कि उसकी बीवी ने किसी और से शादी कर ली है जो उसके बच्चों और बीवी की देख-रेख करता है।

शेख ने कहा कि वो अपनी बीवी और बच्चों के साथ नई शुरुआत करना चाहता है। उसने बताया कि अब वह गुरुवार यानी कि अगले दिन (2 सितंबर) लौट कर आएगा। जब वह अगले दिन गया तो उसके बीवी बच्चे नहीं मिले। शेख ने अपनी सास से पूछा तो उन्होंने कोई जानकारी नहीं दी। इससे शेख गुस्सा हो गया और अपनी ही सास को पीटने लगा। 

शेख ने पहले अपनी सास का सिर कुचला और फिर चाकू से मारा और बाद में उसके प्राइवेट पार्ट में बाँस डाल कर अंदर के अंग बाहर निकाल दिए। इसके बाद मौके से वहाँ से फरार हो गया। हालाँकि घटना के एक दिन बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया। अब 14 सितंबर तक वह पुलिस हिरासत में है।

पुलिस ने इस हत्या की गुत्थी सीसीटीवी फुटेज की मदद से सुलझाई और शेख के कुछ दोस्तों से बात करके उसे पकड़ा गया। मिड-डे की रिपोर्ट बताती है कि श्याम शिगम की बेटी लीना की इकबाल शेख से शादी 2011 में हुई थी। उसके विरुद्ध कई मामले दर्ज हैं। इनमें से 8 में वह सजा भुगत रहा था। 1 सितंबर को रिहा होने के बाद उसने अपराध को अंजाम दिया। अपनी सास को मारने से पहले वह सत्कार बार और रेस्ट्रां में गया था। वहाँ उसने मैनेजर और बार मालिक को धमकाया। उनसे 3 हजार रुपए लिए, दो बोतल शराब की ली और चला गया।

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

The world is about to receive just the news it needs. My team and I believe that journalism can change the world and we are on a mission to ensure that this happens.

Leave a comment