17.1 C
Delhi
Wednesday, February 8, 2023
No menu items!

यूपी में हिंदुत्व पड़ा फिका ‘हिंदू-मुसलमान’ पर जाति हुई हावी , संगीत सोम की राह हुई मुश्किल

- Advertisement -
- Advertisement -

मुख्यमंत्री बनने से पहले तक योगी आदित्यनाथ को पूर्वी उत्तर प्रदेश का कद्दावर नेता माना जाता था। वहीं, पश्चिमी क्षेत्र में संगीत सिंह सोम की भी अच्छी खासी पकड़ है। दोनों में कुछ समानताएं हैं। दोनों नेताओं को कट्टर हिंदुत्व वाली छवि के लिए जाना जाता है। इसके अलावा दोनों ही राजपूत हैं। हालांकि, सोम से भगवा पार्टी को इस चुनाव में कुछ खास फायदे की उम्मीद नहीं है। इसका कारण यह है कि इस विधानसभा चुनाव में धर्म से अधिक जाति का मुद्दा हावी है। 

मेरठ जिले की सरधना विधानसभा सीट से दो बार के विधायक रहे सोम 2013 के मुजफ्फरनगर दंगों के बाद सुर्खियों में आए थे। सरधना निर्वाचन क्षेत्र में मुसलमानों की संख्या लगभग 20 प्रतिशत है। यहां दलित करीब 16 प्रतिशत हैं। इन दो समुदायों के अलावा इस क्षेत्र में राजपूत, गुर्जर, जाट, ब्राह्मण और अन्य पिछड़ा वर्ग के लोग भी हैं। सोम को अपनी जीत बरकरार रखने के लिए दलित वोट को साधना होगा।

- Advertisement -

सपा कैंडिडेट से है संगीत सोम की लड़ाई
संगीत सोम अतुल प्रधान के खिलाफ चुनाव लड़ेंगे,  जिन्हें समाजवादी पार्टी-राष्ट्रीय लोक दल गठबंधन का समर्थन प्राप्त है। वहीं, बहुजन समाज पार्टी ने संजीव धामा और कांग्रेस ने सैयद रेहानुद्दीन ने मैदान में उतारा है। प्रधान गुर्जर समुदाय से ताल्लुक रखते हैं और वह पिछले दो चुनावों में सोम के खिलाफ चुनाव लड़ चुके हैं और हार गए हैं।

दलितों का क्या है मूड?
दलित बहुल मेरठ से करीब 25 किलोमीटर दूर सरधना तहसील के अलीपुर गांव का मिजाज कुछ जवाब दे सकता है। टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक, अधिकांश ग्रामीणों का मानना ​​है कि दलित समुदाय के एक वर्ग ने पिछले चुनावों में सोम को वोट दिया और वोटों के बंटवारे के कारण बसपा प्रमुख मायावती की राजनीतिक स्थिति कम हो गई। उन्हें लगता है कि यह उनके समुदाय के भविष्य के लिए अच्छा नहीं है। बसपा प्रत्याशी धामा जाट समुदाय से हैं। गांव के एक दलित पंचायत सदस्य ने कहा, ”उम्मीदवार ज्यादा मायने नहीं रखता, हमें इस बार बसपा का वोट प्रतिशत बढ़ाना है।”  पंचायत सदस्य ने कहा कि निर्वाचन क्षेत्र की अधिकांश आबादी जाटव समुदाय की है जो मायावती के कट्टर समर्थक माने जाते हैं। दलितों के अन्य समूहों जैसे खटीक, पासी और वाल्मीकि की संख्या कम है।

रालोद समर्थित सपा उम्मीदवार को मुस्लिम, जाट और गुर्जर समुदायों का बहुत समर्थन प्राप्त है। जिन समुदायों का भाजपा को पूरा समर्थन मिल रहा है, वे हैं राजपूत, ब्राह्मण और वैश्य। ओबीसी में कश्यप और सैनी बड़ी संख्या में हैं। उन्होंने फिलहाल अपने पत्ते नहीं खोले हैं। 

कांग्रेस उम्मीदवार की दावेदारी कमजोर
कांग्रेस के रेहानुद्दीन और ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के जीशान आलम भी मैदान में हैं लेकिन उन्हें बहुत मजबूत दावेदार नहीं माना जा रहा है। अलीपुर से सटा गांव मुस्लिम बहुल कुलंजन है। वहां एक घर के बाहर हुक्का पीते हुए कुछ पुरुष चर्चा में लगे हुए थे लेकिन आने वाले चुनाव के बारे में बात नहीं करना चाहते थे। बहुत खोजबीन के बाद उनमें से एक ने महाभारत और रामायण का उदाहरण दिया और कहा, “अंत में भी केवल 20 प्रतिशत ही जीता।” वह जाहिर तौर पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ’80 फीसदी बनाम 20 फीसदी’ के बयान का जिक्र कर रहे थे।

सरधना तहसील में तैनात एक अधिकारी ने बताया कि कुछ मुस्लिम नेताओं के बयान पर विवाद के बाद प्रभावशाली मुस्लिम परिवारों ने मीडिया से बातचीत पर अघोषित रोक लगा दी है। उन्होंने कहा कि सपा-रालोद गठबंधन के नेताओं को मुस्लिम बहुल इलाकों में प्रचार करने से परहेज करने की सलाह दी गई है।

मुस्लिम विरोधी बयान के लिए फेमस हुए सोम
सरधना, जो अपने 200 साल पुराने रोमन कैथोलिक चर्च के लिए प्रसिद्ध है, में सोम को पसंद करने वाले और उसे नापसंद करने वाले दोनों लोग हैं। उन्हें मुजफ्फरनगर दंगे के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया था। और तब से, वह अपने मुस्लिम विरोधी बयानों के लिए कुछ वर्गों के बीच पसंदीदा बने हुए हैं।  पिछले साल सितंबर में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने घोषणा की थी कि यूपी में जहां-जहां मंदिरों को तोड़कर मस्जिद बने हैं, वहां-वहां बीजेपी मंदिरों का पुनर्निर्माण करेगी।

योगी की लोकप्रियता मिल रहा फायदा
हिंदू समुदाय में अपनी ‘मजबूत नेता’ की छवि के अलावा सोम को मुख्यमंत्री की लोकप्रियता का भी फायदा मिल रहा है। सरधना के कुछ लोगों ने कहा कि वे सोम के व्यवहार से नाराज हैं, लेकिन वे भाजपा को नहीं, योगी आदित्यनाथ को वोट देंगे। क्योंकि उन्होंने राज्य में “गुंडागर्दी” को समाप्त कर दिया है।

केंद्र और राज्य सरकारों की कल्याणकारी योजनाओं के कारण दलित और पिछड़ा वर्ग का एक वर्ग भी भाजपा का समर्थन कर रहा है। अलीपुर ग्राम पंचायत के सदस्य ने कहा कि इससे दलित वोट बहुत महत्वपूर्ण हो गए हैं और सोम और प्रधान दोनों समुदाय को लुभाने की कोशिश कर रहे हैं।

बीजेपी के पक्ष में खुलकर बोलने से किसानों का परहेज
हालांकि, क्षेत्र के किसान, चाहे उनका समुदाय कुछ भी हो, भाजपा के पक्ष में खुलकर बोलने से परहेज कर रहे हैं। सरधना का चुनावी मिजाज मेरठ और मुजफ्फरनगर जिलों के विधानसभा क्षेत्रों का एक संकेतक है जहां मुस्लिम समुदाय सबसे बड़ा मतदाता वर्ग है। एक अनुमान के मुताबिक पश्चिमी उत्तर प्रदेश में 15 जिले ऐसे हैं जहां मुस्लिम मतदाताओं की संख्या अन्य समुदायों से ज्यादा है।

हालांकि मेरठ जिला अदालत में प्रैक्टिस कर रहे युवा वकीलों शक्ति सिंह और दीपक तोमर का मानना ​​था कि जहां मुस्लिम वोटरों की संख्या कम है वहां भी बीजेपी को ज्यादा फायदा नहीं हो रहा है। उनका मानना ​​​​है कि इसका मुख्य कारण सांप्रदायिक ध्रुवीकरण की कमी है, जिससे भाजपा को फायदा होता है। उनके अनुसार, मेरठ कैंट जैसे शहरी विधानसभा क्षेत्रों में भाजपा को फायदा होगा, जहां मुस्लिम मतदाता कम थे और भाजपा के समर्थक वर्ग ब्राह्मण, वैश्य और राजपूत अच्छी संख्या में थे।

- Advertisement -
Jamil Khan
Jamil Khan
Jamil Khan is a journalist,Sub editor at Reportlook.com, he's also one of the founder member Daily Digital newspaper reportlook
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here