जेद्दाह: सऊदी अरब इस साल की वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट में 25वें स्थान पर पहुंच गया है।

संयुक्त राष्ट्र सतत विकास समाधान नेटवर्क द्वारा प्रकाशित सर्वेक्षण, दुनिया भर के 156 देशों में खुशी के स्तर को मापता है। पिछले साल सऊदी अरब को 26वें स्थान पर रखा गया था।

इस रिपोर्ट में 2017 के बाद से सऊदी अरब की प्रगति को मापा है, जिसमें सऊदी विज़न 2030 के लक्ष्यों के प्रभाव को उजागर किया गया है, जिसमें जीवन की गुणवत्ता कार्यक्रम का विकास भी शामिल है।

यह नोट किया गया कि सऊदी अरब ने सकल घरेलू उत्पाद, सामाजिक समर्थन, जीवन प्रत्याशा, जीवन निर्णय लेने की स्वतंत्रता में सुधार करने के साथ-साथ भ्रष्टाचार का सामना करने के प्रयासों को तेज करने में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि सऊदी अरब ने सामाजिक सहायता परियोजनाओं और आर्थिक कार्यक्रमों की स्थापना की है जो देश को COVID-19 महामारी के नतीजों से उबरने में योगदान करते हैं।

इस वर्ष वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट की 10वीं वर्षगांठ है, जो दुनिया भर के लोगों के जीवन में बदलाव की रिपोर्ट करने के लिए वैश्विक सर्वेक्षण डेटा का उपयोग करती है।

रिपोर्ट की वेबसाइट कहती है कि “रिपोर्ट दो प्रमुख विचारों पर आधारित है: खुशी या जीवन मूल्यांकन को राय सर्वेक्षणों के माध्यम से मापा जा सकता है, और यह कि हम भलाई के प्रमुख निर्धारकों की पहचान कर सकते हैं और इस तरह देशों में जीवन मूल्यांकन के पैटर्न की व्याख्या कर सकते हैं,”

इसमें कहा गया है कि सर्वेक्षण के परिणाम देशों को खुशहाल समाज प्राप्त करने के उद्देश्य से नीतियां बनाने में मदद कर सकते हैं।

हालाकि इस रिपोर्ट में भारत अपने दो मुस्लिम बहुत देश पाकिस्तान और बांग्लादेश से भी पिछड़ गया है जहां बांग्लादेश को इस रिपोर्ट में 94 वे स्थान पर रखा गया है वहीं पाकिस्तान को 121 वे स्थान पर जगह मिली और भारत को 136 वा स्थान मिला.

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

journalist | chief of editor and founder at reportlook media network

Leave a comment