Burqa clad Muslim women take part in a demonstration in Hyderabad on February 9, 2022 to protest after students at government-run high schools in India's Karnataka state were told not to wear hijabs in the premises of the institute. (Photo by NOAH SEELAM / AFP) (Photo by NOAH SEELAM/AFP via Getty Images)

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) की मुस्लिम शाखा ने कर्नाटक की छात्रा, बीबी मुस्कान खान का समर्थन किया है. संघ ने कहा कि हिजाब या ‘पर्दा’ भी भारतीय संस्कृति का हिस्सा है. आरएसएस मुस्लिम विंग – मुस्लिम राष्ट्रीय मंच – ने हिजाब पहनने की बीबी मुस्कान की याचिका का समर्थन किया है और उसके आसपास के भगवा उन्माद की निंदा की है.

मुस्लिम राष्ट्रीय मंच ने कहीं ये बातें

पत्रकारों से बात करते हुए, मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के अवध प्रांत संचालक अनिल सिंह ने कहा कि वह हमारे समुदाय की एक बेटी और बहन है. हम उसके संकट की घड़ी में उसके साथ खड़े हैं. मुस्लिम राष्ट्रीय मंच ने अपने बयान में कहा कि हिंदू संस्कृति महिलाओं का सम्मान करना सिखाती है, और जिन्होंने ‘जय श्री राम’ का जाप किया और लड़की को आतंकित करने की कोशिश की, वे गलत थे. बयान में कहा गया, ‘लड़की को हिजाब पहनने की संवैधानिक स्वतंत्रता है.’ अगर उसने कैंपस ड्रेस कोड का उल्लंघन किया था तो संस्था को उसके खिलाफ कार्रवाई करने का अधिकार है.

लड़कों का भगवा दुपट्टा पहने और ‘जय श्री राम’ के नारे लगाने का व्यवहार अस्वीकार्य

आरएसएस नेता ने कहा कि लड़कों का भगवा दुपट्टा पहने और ‘जय श्री राम’ के नारे लगाने का व्यवहार अस्वीकार्य है. उन्होंने हिंदू संस्कृति को बदनाम किया है. सिंह ने कहा कि हिजाब या पर्दा भी भारतीय संस्कृति का हिस्सा है और हिंदू महिलाएं अपनी पसंद के अनुसार पर्दा पहनती हैं. और यही शर्त बीबी मुस्कान पर भी लागू होती है. सिंह ने कहा कि हमारे सरसंघ चालक ने कहा है, मुसलमान हमारे भाई हैं और दोनों समुदायों का डीएनए समान है. मैं हिंदू समुदाय के सदस्यों से मुसलमानों को अपने भाई के रूप में स्वीकार करने की अपील करता हूं

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

The world is about to receive just the news it needs. My team and I believe that journalism can change the world and we are on a mission to ensure that this happens.

Leave a comment