17.1 C
London
Tuesday, May 28, 2024

अगर आपके पास भी है Cryptocurrency तो घबराने की जरूरत नहीं! समय देगी सरकार

- Advertisement -spot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_img

नई दिल्ली. भारत सरकार सभी तरह की क्रिप्टोकरेंसीज (Cryptocurrencies) को बैन करने की तैयारी कर रही है. संसद के शीतकालीन सत्र में आने वाले बिलों में से एक बिल क्रिप्टोकरंसी की रेगुलेशन (The Cryptocurrency and Regulation of Official Digital Currency Bill, 2021) पर भी है. सूत्रों का कहना है कि सरकार सभी प्राइवेट क्रिप्टोकरेंसीज (Private Cryptocurrencies) को बैन कर देगी.

सूत्रों की मानें तो इस विधेयक के पारित होने पर कोई भी व्यक्ति क्रिप्टोकरंसी को माइन (Mining) नहीं कर पाएगा. न वह खरीद (Buy) सकेगा और न ही जेनरेट (Generate), होल्ड (Hold), सेल (Sell) या किसी क्रिप्टोकरेंसी में डील (Deal) कर पाएगा. न ही इसे किसी दूसरे को इश्यू (Issue), ट्रांसफर (Transfer) या डिस्पोज (Dispose) नहीं कर पाए.

सीएनबीसी आवाज की एक रिपोर्ट के अनुसार, जिन लोगों के पास फिलहाल क्रिप्टोकरेंसीज हैं, उन्हें अपनी पोजीशन से निकलने के लिए एक निर्धारित समय दिया जाएगा. तो यदि आपके पास भी कोई क्रिप्टोकरेंसी है तो उसे आप अभी बेचकर निकल सकते हैं या फिर बाद में आप सरकार द्वारा दिए गए समय में बेच सकते हैं. सूत्रों का कहना है कि जिन लोगों ने अपना पैसा क्रिप्टोकरेंसीज़ में लगा रखा है, उनको किसी तरह की कोई परेशानी न हो, इसलिए सरकार समय दे सकती है.

क्रिप्टोकरेंसी क्या है और ये हैक नहीं हो सकती
क्रिप्टोकरेंसी ब्लॉकचेन तकनीक पर आधारित पूरी तरह से एक डिसेंट्रलाइज्ड व्यवस्था है. इस पर किसी सरकार या कंपनी का कोई नियंत्रण नहीं है. ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी और डिस्ट्रिब्यूटेड सिस्टम पर एक दूसरे को हस्तांतरित होने वाली क्रिप्ट्रोकरेंसी बेहद सुरक्षित मानी जाती है. विशेषज्ञ कहते हैं कि इसे कोई हैक नहीं कर सकता और इसके डेटा में किसी तरह की छेड़छाड़ संभव नहीं है, क्योंकि ब्लॉकचेन तकनीक में हर सूचना दुनियाभर के कनेक्टेड डिवाइसेज पर उपलब्ध रहती है. यदि छेड़छाड़ करनी है तो दुनियाभर से सभी ब्लॉकचेन से कनेक्टेड कंप्यूटर्स पर बदलाव करना होगा, जोकि संभव है ही नहीं.

- Advertisement -spot_imgspot_img
Jamil Khan
Jamil Khan
जमील ख़ान एक स्वतंत्र पत्रकार है जो ज़्यादातर मुस्लिम मुद्दों पर अपने लेख प्रकाशित करते है. मुख्य धारा की मीडिया में चलाये जा रहे मुस्लिम विरोधी मानसिकता को जवाब देने के लिए उन्होंने 2017 में रिपोर्टलूक न्यूज़ कंपनी की स्थापना कि थी। नीचे दिये गये सोशल मीडिया आइकॉन पर क्लिक कर आप उन्हें फॉलो कर सकते है और संपर्क साध सकते है

Latest news

- Advertisement -spot_img

Related news

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here