12.3 C
London
Friday, June 14, 2024

हिजाब पर हाथ डाला तो रजिया सुल्तान बनकर तुम्हारे हाथ ‘काट’ डालेंगे : रूबीना खानम

- Advertisement -spot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_img

कर्नाटक हिजाब पूरे भारत में फैल रहा है। कई जगहों पर लोग विरोध प्रदर्शन करते दिख रहे हैं। इस बीच समाजवादी पार्टी की नेता रुबीना खानम ने शनिवार को उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में कहा कि हिजाब को छूने की कोशिश करने वालों के हाथ काट दिए जाएंगे। बता दें कि अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय की छात्राओं ने शुक्रवार को कर्नाटक के कुछ शैक्षणिक संस्थानों में हिजाब पर प्रतिबंध के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया था।

रुबीना खानम ने कहा, “यदि आप भारत की बेटियों और बहनों की गरिमा के साथ खेलने की कोशिश करते हैं, तो उन्हें झांसी की रानी और रजिया सुल्ताना की तरह बनने में देर नहीं लगेगी और उनके हिजाब को हाथ लगाने वालों के हाथ काट दिए जाएंगे।” समाजवादी पार्टी के नेता ने यह भी कहा कि भारत विविधता का देश है और इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि किसी व्यक्ति के माथे पर तिलक है या पगड़ी या हिजाब है।

उन्होंने कहा कि ‘घूंघट’ और हिजाब ‘भारतीय संस्कृति और परंपराओं के अभिन्न अंग’ हैं। “इन मुद्दों का राजनीतिकरण करके विवाद पैदा करना भयानक है।” रुबीना खानम ने कहा, ‘सरकार कोई भी पार्टी चला सकती है, लेकिन किसी को भी महिलाओं को कमजोर समझने की गलती नहीं करनी चाहिए।’ समाजवादी पार्टी की नेता का बयान सात चरणों में हो रहे उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के बीच आया है जो 7 मार्च को संपन्न होगा। वोटों की गिनती 10 मार्च को होगी।

युवा मुस्लिम छात्राओं के एक समूह को हिजाब पहनने के कारण उडुपी में अपने कॉलेज में प्रवेश करने की अनुमति नहीं मिलने के बाद कर्नाटक में हिजाब विवाद शुरू हो गया था। यह मुद्दा पूरे राज्य में फैल गया क्योंकि अधिक कॉलेजों और स्कूलों ने इसी तरह के फरमान जारी किए। छात्रों के विरोधी समूहों ने शैक्षणिक संस्थानों में हिजाब पहनने के अधिकार के खिलाफ और विरोध प्रदर्शन करना शुरू कर दिया। मुस्लिम लड़कियों का विरोध करने वालों ने भगवा स्कार्फ पहन रखा था। इस मामले पर विवाद गहरा गया है। 

- Advertisement -spot_imgspot_img
Jamil Khan
Jamil Khan
जमील ख़ान एक स्वतंत्र पत्रकार है जो ज़्यादातर मुस्लिम मुद्दों पर अपने लेख प्रकाशित करते है. मुख्य धारा की मीडिया में चलाये जा रहे मुस्लिम विरोधी मानसिकता को जवाब देने के लिए उन्होंने 2017 में रिपोर्टलूक न्यूज़ कंपनी की स्थापना कि थी। नीचे दिये गये सोशल मीडिया आइकॉन पर क्लिक कर आप उन्हें फॉलो कर सकते है और संपर्क साध सकते है

Latest news

- Advertisement -spot_img

Related news

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here