[email protected]

इस्लाम धर्म छोड़कर हिन्दू बना वसीम रिजवी, यति नरसिंहानंद कराया धर्म परिवर्तन

- Advertisement -
- Advertisement -

शिया वक्‍फ बोर्ड के पूर्व चेयरमैन वसीम रिजवी ने इस्लाम धर्म छोड़कर हिंदू धर्म अपना लिया है. सोमवार सुबह गाजियाबाद के डासना मंदिर में यति नरसिंहानंद सरस्वती ने उन्हें सनातन धर्म में शामिल कराया. वसीम रिजवी ने हिंदू बनने के बाद कहा कि मुझे इस्लाम से बाहर कर दिया गया है, हमारे सिर पर हर शुक्रवार को ईनाम बढ़ा दिया जाता है, आज मैं सनातन धर्म अपना रहा हूं. यति नरसिंहानंद सरस्वती ने कहा कि हम वसीम रिजवी के साथ हैं, वसीम रिजवी त्यागी बिरादरी से जुड़ेंगे.

शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी को अकसर सुर्खियों में विवादित बयानों के लिए देखा और सुना जा सकता है। एक बार फिर रिजवी मीडिया की सुर्खियों में हैं। इस बार कारण विवादित बयान नहीं बल्कि उनके धर्म परिवर्तन का मामला हैं। वसीम रिजवी (Wasim Rizvi) ने ऐलान किया है कि वह अपना इस्लाम धर्म छोड़कर हिंदू धर्म अपनाने जा रहे हैं। ताजा जानकारी के अनुसार शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद के डासना देवी मंदिर के महंत यति नरसिंहानंद गिरि की मौजूदगी में सनातन धर्म ग्रहण करेंगे।

वसीम रिजवी उत्तर प्रदेश में शिया सेंट्रल बोर्ड ऑफ वक्फ के पूर्व सदस्य और अध्यक्ष हैं। उन्हें भारत के सर्वोच्च न्यायालय में याचिका दायर करने के साथ-साथ बॉलीवुड फिल्म राम की जन्मभूमि का निर्माण करने के लिए जाना जाता है। रिजवी द्वितीय श्रेणी के रेलवे कर्मचारी का बेटे है। उन्हें 2000 में लखनऊ के पुराने शहर के कश्मीरी मोहल्ला वार्ड से समाजवादी पार्टी (सपा) का पार्षद चुना गया और 2008 में शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के सदस्य बने।

2012 में, रिज़वी को शिया धर्मगुरु कल्बे जवाद के साथ गिरने के बाद छह साल के लिए सपा से निष्कासित कर दिया गया था, जिन्होंने उन पर धन की हेराफेरी का आरोप लगाया था। रिजवी ने इन आरोपों को “अपने तर्क को कमजोर करने” की इच्छा से प्रेरित “पकाया” करार दिया। रिजवी को बाद में कोर्ट से राहत मिली और उन्हें बहाल कर दिया गया।

फेसबुक पर ताजा ख़बरें पाने के लिए लाइक करे

Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -
×