रूस, 1 जनवरी : इस प्रदर्शन से क्रेमलिन (रूसी सरकार का मुख्यालय) परेशान है. एक निगरानी संगठन के अनुसार पुलिस ने 5,000 से अधिक लोगों को हिरासत में लिया है, जिनमें से कई के साथ मारपीट भी की गई है. रूसी (Russian) अधिकारी बड़े पैमाने पर हुए प्रदर्शन से निपटने के लिये हरसंभव कोशिश कर रहे हैं.


पिछले सप्ताहांत भी देशभर में हजारों लोगों ने प्रदर्शन किया था. हाल के वर्षों में हुए विरोध का यह सबसे मुखर स्वरूप है. कैद करने की धमकियों, सोशल मीडिया समूहों को चेतावनी तथा पुलिस का डर दिखाये जाने के बावजूद रविवार को कई शहरों में जबर्दस्त प्रदर्शन हुआ. नवलनी (Naval) के दल ने मंगलवार को मास्को में एक और प्रदर्शन का आह्वान किया है. इसी दिन नवलनी के मामले पर अदालत में सुनवाई होनी है.

राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (President Vladimir Putin) के आलोचक और भ्रष्टाचार विरोधी मुहिम चलाने वाले नवलनी (44) को जर्मनी से लौटते ही 17 जनवरी को गिरफ्तार कर लिया गया था. नवलनी को नर्व एजेंट (जहर) दिया गया था और उनका करीब पांच महीने जर्मनी के एक अस्पताल में इलाज चला था. उन्होंने जहर देने का आरोप क्रेमलिन पर लगाया है. इस बीच, अमेरिका ने रूस से नवलनी को रिहा करने की अपील की है और प्रदर्शनों पर दमनात्मक कार्रवाई की निंदा की है. 

अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकेन ने ट्वीट किया, ‘‘ अमेरिका शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे लोगों एवं पत्रकारों पर लगातार दूसरे सप्ताह कठोर कार्रवाई की निंदा करता है.’’ रूस के विदेश मंत्रालय ने ब्लिंकेन के ट्वीट के जवाब में कहा, ‘‘यह रूस के आंतरिक मामलों में दखलंदाजी है.’’ राजनीतिक गिरफ्तारियों पर नजर रखने वाले संगठन ‘ओवीडी-इन्फो’ के अनुसार रविवार को पुलिस ने विभिन्न शहरों में 5,000 से अधिक लोगों को हिरासत में लिया है.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *