हज़रत अली ने फरमाया जो फजर के बाद सोते हैं उनकी किस्मत में क्या लिखा जाता है? जानने के बाद गलती से भी…

धर्महज़रत अली ने फरमाया जो फजर के बाद सोते हैं उनकी किस्मत में क्या लिखा जाता है? जानने के बाद गलती से भी…

आज हमारे समाज में एक ट्रेन्ड बना हुआ है कि नौजवान रात के दो, तीन बजे तक मोबाइल पर लगे पड़े रहते हैं फिर उनसे सुबह की नमाज भी क़ज़ा और फिर दिन के 12:00 बजे तक आराम फरमा रहे होते हैं आज हम आपको बताएंगे कि हज़रत अली ने ऐसे लोगों के बारे में क्या फरमाया है।

क्या कुछ उनकी किस्मत में लिख दिया जाता है जो ऐसे हालात के लपेट में आ चुके होते हैं जो इंसान सुबह सोया पड़ा रहता है उसके इस काम को इस्लाम ने सख्त नापसंद फरमाया है दोपहर के अलावा किसी भी वक्त ना सोया करो क्योंकि ये अमल हमारे नबी भी किया करते थे क़ैलूला वो नहीं जिसमें इंसान पेट भर कर खाना खाकर सो जाए क़ैलूला से मुराद वो अमल है कि आप खाना खा चुके हैं या नहीं बस थोड़ी देर दोपहर को आराम करना ताकि आपका जो भी बाकी दिन का वक्त है अच्छा गुजरे।

हजरत अली रजि अल्लाह ताला अन्हु ने फरमाया मैंने नबी करीम सल्लल्लाहो अलैहि वसल्लम से सुना था कि खाना खाकर उसी वक्त ना सोया करो उससे दिल में सख्ती पैदा होती है अब यह बात यहां तक पहुंची कि अब डॉक्टर भी ये मान रहे हैं कि जो लोग खाना खाकर उसी वक़्त सो जाते हैं वो दिल के मर्ज का शिकार हो जाते हैं यही बात चौदह साल पहले हमारे नबी ने फरमाइ थी।

एक मर्तबा हज़रत अली की खिदमत में एक आदमी आया और फरमाने लगा या अली रज़ि अल्लाहू अन्हु सुबह सवेरे जो आदमी सोया पड़ा रहता है उसकी किस्मत में क्या कुछ लिखा जाता है उन्होंने फरमाया ये अल्लाह के बंदे मैं अल्लाह के नबी से सुना कि जो भी इंसान सुबह के वक्त में सोया पड़ा रहता है और फजर की नमाज भी कजा कर देता है या जो आदमी सुबह की नमाज पढ़ कर सो जाता है जब फरिश्ते आसमान से उसके मुकद्दर की रिज़्क़ लेकर जमीन की तरफ आते हैं और इंसानों में रिज़्क़ बांटने लग जाते हैं तो जो इंसान सोए होते हैं उस वजह से वो रिज़्क़ वापस अपने साथ लेकर आसमानों की तरफ लौट जाते हैं।

जब वह नींद से उठता है तब ऐसे लोग रिज़्क़ की तंगी की शिकायत करते फिरते हैं जो लोग रिज़्क़ की तंगी की शिकायत करते हैं जब आजमाने के लिए उनसे पूछो तो सही कि सुबह कितने बजे उठते हो तो लाजमी कहेंगे कि हम सुबह उठते ही नहीं लिहाजा यही वजह है कि जिसकी वजह से उनका रिज़्क़ तंग कर दिया जाता है

जिसकी वजह से वो रिज़्क़ की शिकायत किये फिरते हैं आपसे गुजारिश है आप सवेरे उठा करें आप सुबह नमाज अदा करें कोशिश करें आदमी लोग जमात के साथ नमाज अदा करें कुरान की तिलावत करें उसके बाद आप जिंदगी शुरुआत करेंगे तो आपका दिन खुशगवार गुजरेगा

जो इंसान सवेरे जागते हैं वह अपने काम भरपूर तरीके से अंजाम देते हैं उनके रिज़्क़ में बरकत होती है और वो एक पुरसुकून और खुशहाल जिंदगी बसर करते हैं उनकी तंदुरुस्ती की भी कोई शिकायत नहीं होती और उनको कोई जल्दी बीमारी भी नही लगती है ।

Check out our other content

Check out other tags:

Most Popular Articles