17.9 C
London
Friday, May 17, 2024

पंजशीर में फिर छिड़ा भीषण संग्राम, अज्ञात सैन्य विमानों ने किए तालिबान के ठिकानों पर किए हमले: रिपोर्ट

- Advertisement -spot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_img

सोमवार को पंजशीर प्रांत पर तालिबान के कब्जे का दावा करने के बाद आज एक बार फिर यहां जंग तेज होने की खबरें हैं। कुछ रिपोर्ट्स में यह दावा किया जा रहा है कि पंजशीर में तालिबान के ठिकानों पर कुछ अज्ञात सैन्य विमानों के जरिए हवाई हमले किए गए हैं। कुछ विदेशी रिपोर्टरों ने पंजशीर के डिप्टी गवर्नर के हवाले से इलाके में भीषण लड़ाई होने का दावा किया है। 

सोमवार को ही तालिबान ने दावा किया था कि अब तक अजेय रहे पंजशीर प्रांत पर भी उसने पूरी तरह कब्जा कर लिया है। पंजशीर गवर्नर ऑफिस के बाहर तालिबान लड़ाकों के झंडा फहराने का वीडियो भी सोशल मीडिया पर काफी वायरल हुआ था। 

हालांकि, पंजशीर में नेशनल रेजिस्टेंस फ्रंट का नेतृत्व कर रहे अहमद मसूद ने तालिबान के कब्जे वाले दावे को खारिज किया था। उन्होंने कहा था कि तालिबान के खिलाफ वह तब तक लड़ेंगे जब तक उनके शरीर में खून का आखिरी कतरा बचा रहेगा।

तालिबान ने सोमवार को ऐलान किया कि पंजशीर प्रांत पूरी तरह उसके कब्जे में है। तालिबान प्रवक्ता जबीउल्लाह ने एक बयान जारी कर कहा कि इस जीत से हमारा देश पूरी तरह से युद्ध के दलदल से निकल चुका है। बता दें कि 15 अगस्त को काबुल पर कब्जे के बाद से अब तक पंजशीर ही अफगानिस्तान का अकेला प्रांत था, जो तालिबान के नियंत्रण में नहीं था। कई प्रत्यक्षदर्शियों ने पहचान जाहिर न करने की शर्त पर समाचार एजेंसी एपी को बताया कि रविवार रात हजारों तालिबानी लड़ाकों ने पंजशीर के आठ जिलों पर कब्जा किया। 

वहीं, एनआरएफ नेता अहमद मसूद ने इस दावे को खारिज किया। मसूद ने तालिबान के खिलाफ जंग जारी रहने की हुंकार भरते हुए कहा कि हम अजेय हैं और तालिबान के खिलाफ आखिरी बूंद तक हमारे लड़ाके जंग करेंगे। मसूद ने कहा कि मैं अपने खून की आखिरी बूंद तक तालिबान से लड़ता रहूंगा। फेसबुक पेज पर जारी एक ऑडियो संदेश में मसूद ने कहा, ‘हमारी फोर्सेज अब भी पंजशीर में मौजूद हैं और तालिबान के खिलाफ जंग जारी है।’

- Advertisement -spot_imgspot_img
Jamil Khan
Jamil Khan
जमील ख़ान एक स्वतंत्र पत्रकार है जो ज़्यादातर मुस्लिम मुद्दों पर अपने लेख प्रकाशित करते है. मुख्य धारा की मीडिया में चलाये जा रहे मुस्लिम विरोधी मानसिकता को जवाब देने के लिए उन्होंने 2017 में रिपोर्टलूक न्यूज़ कंपनी की स्थापना कि थी। नीचे दिये गये सोशल मीडिया आइकॉन पर क्लिक कर आप उन्हें फॉलो कर सकते है और संपर्क साध सकते है

Latest news

- Advertisement -spot_img

Related news

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here