मुनव्वर फारूकी ने लगातार 12 शो कैंसल होने के बाद कहा- ‘गुडबॉय, नफरत जीत गई, आर्टिस्ट हार गया’

मुंबई: मुनव्वर फारूकी (Munawar Faruqui) के कट्टरपंथियों की धमकियों की वजह से पिछले दो महीनों में कम से कम 12 शो कैंसल हो गए. वे हिंदू देवी-देवताओं के अपमान के आरोप में एक महीना जेल में भी रह चुके हैं. आज इन तमाम चुनौतियों के सामने घुटने टेकते हुए, कॉमेडियन मुनव्वर फारूकी ने आगे कभी कोई शो न करने के संकेत दिए हैं. वे इन तमाम विवादों और आरोपों के बाद शायद ही आगे कभी कोई शो करें.

नफरत जीत गई, आर्टिस्ट हार गया
आज मुनव्वर का एक शो बैंगलुरु में होना था, पर पुलिस ने कानून और सिस्टम की समस्याओं का हवाला देते हुए ऑर्गेनाइजर्स को इसे बंद करने के लिए कहा. फारूकी ने इस साल की शुरुआत में अपने एक कॉमेडी शो के दौरान हिंदू देवी-देवताओं का अपमान करने के आरोप में एक महीना जेल में बिताया था. मुनव्वर ने आज 28 नवंबर को बेंगलुरु में अपने शो के रद्द होने के बाद इंस्टाग्राम पर एक इमोशनल पोस्ट किया. वे लिखते हैं, ‘नफरत जीत गई, आर्टिस्ट हार गया. अलविदा.’ हालांकि, कॉमेडियन के कई फैंस ने उनसे शो बंद न करने का अनुरोध भी किया.

फैंस ने कॉमेडी न छोड़ने का किया अनुरोध
म्यूजीशियन मयूर जुमानी ने उनकी पोस्ट पर कमेंट किया, ‘नहीं, आप छोड़ नहीं रहे हैं. हम आपको ऐसा नहीं करने देंगे.’ मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, बैंगलुरु पुलिस ने शो के ऑर्गेनाइजर्स को लिखे एक पत्र में मुनव्वर फारूकी के शो ‘डोंगरी टू नोव्हेयर’ का जिक्र किया और कहा कि श्री फारूकी एक विवादित व्यक्ति हैं. बैंगलुरु में हिंदू जागरण समिति के प्रतिनिधि ने भी कहा कि वे इस शो को आयोजित नहीं होने देंगे.

दो महीनों में 12 शो हुए कैंसल
इंस्टाग्राम पोस्ट में मुनव्वर फारूकी ने बताया कि उन्होंने बैंगलुरु शो के लिए 600 से ज्यादा टिकट बेचे थे, लेकिन तोड़फोड़ की धमकियों की वजह से शो रद्द कर दिया गया. वे लिखते हैं, ‘आज तोड़फोड़ की धमकी की वजह से बैंगलुरु शो कैंसिल हो गया. हमने 600 से ज्यादा टिकट बेच दिए थे. मुझे उस मजाक के लिए जेल में डाला गया, जो मैंने नहीं किया था. मेरे वह शो रद्द हुए, जिसमें कोई समस्या नहीं थी. यह अन्याय है. इस शो को भारत में लोगों का भरपूर प्यार मिला.’

वे आगे कहते हैं, ‘हमारे पास शो का सेंसर सर्टिफिकेट है जिससे साफ है कि शो में कोई समस्या नहीं है. हमने पिछले दो महीनों में 12 शो कैंसल कर दिए, क्योंकि वेन्यू और ऑडियंस को खतरा था. मुझे लगता है कि यह अंत है. मेरा नाम मुनव्वर फारूकी है. आप लोग शानदार ऑडियंस थे. अलविदा.’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here