फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने शनिवार को सऊदी अरब जाने से पहले दोहा में कहा कि कई यूरोपीय देश अफगानिस्तान के लिए एक संयुक्त दूतावास खोलने पर विचार कर रहे हैं, ताकि तालिबान से संवाद और संपर्क कायम किया जा सके।

वहीं, मान्यता के मसले पर मैक्रों ने कहा कि तालिबान के साथ सुरक्षा मुद्दों पर बात करने के लिए रास्ते तलाशना और तालिबान को राजनीतिक मान्यता देना दोनों पूरी तरह अलग-अलग मसले हैं। इस दौरान यूरोपीय संघ के प्रतिनिधिमंडल कहा कि काबुल में उनकी न्यूनतम उपस्थिति से तालिबान को मान्यता नहीं मिलेगी।

फ्रांस ने तीन सौ लोगों को निकाला…
फ्रांस ने शुक्रवार को बताया कि उसने कतर की मदद से अफगानिस्तान से 300 से अधिक लोगों को बाहर निकाला, जिनमें 258 अफगान लोग हैं। 

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

Leave a comment