13.1 C
Delhi
Sunday, January 29, 2023
No menu items!

10 हज़ार रुपए से अपनी चाय की दुकान शुरू करने MBA चाय वाले की कहानी, MBA से MBA चाय वाले तक ऐसा रहा सफर

- Advertisement -
- Advertisement -

सोशल मीडिया पर इन दिनों एक मोटिवेशनल स्पीकर लोगों को जरूर नजर आता होगा। हम बात कर रहे हैं सोशल मीडिया पर मोटिवेशनल स्पीकर के रूप में देखे जाने वाले प्रफुल्ल बिल्लोड़े की जो एमबीए चाय वाले के नाम से भी पहचाने जाते हैं। आपको बता दें कि इस अनोखे चाय वाले की खासियत और कीमत पूरे भारत में सबसे अलग है और माना जाता है कि पूरे भारत में एमबीए चायवाला के 200 से भी ज्यादा आउटलेट खुल गए हैं। हालांकि खुद प्रफुल्ल ऐसा मानते हैं कि यह सब उनकी मेहनत और किस्मत की बदौलत ही हुआ है क्योंकि एक समय में वह देश के सबसे बड़े संस्थान आईआईएम में एडमिशन लेना चाहते थे आपको बताते हैं कि आई आई एम का सपना देख रहे प्रफुल्ल के दिमाग में कुछ ऐसा आईडिया कैसे आया कि उन्होंने आगे चलकर अपना चाय का दुकान खोल लिया।

आईआईएम कॉलेज में नहीं मिला एडमिशन

- Advertisement -

एमबीए चायवाला के नाम से प्रसिद्ध प्रफुल्ल ने बताया कि हर दूसरे छात्र की तरह उनका भी एक सपना था कि वह आईआईएम के कॉलेज में दाखिला लेकर एक अच्छी सी नौकरी लेकर अपने माता-पिता के साथ समय बिताये लेकिन किस्मत को शायद कुछ और ही मंजूर था। प्रफुल्ल ने बताया कि वह आईआईएम के इंट्रेंस परीक्षा में पास नहीं हो पाए जिसकी वजह से वह धीरे धीरे परेशान रहने लगे और इस बारे में उन्होंने अपने घर पर भी नहीं बताया था। प्रफुल्ल के मुताबिक उनका पढ़ाई से ज्यादा व्यवसाय में मन लगता था और इसी वजह से पढ़ाई के नाम पर उन्होंने अपने पिता से ₹10000 मांगे। आइए आपको बताते हैं कैसे एमबीए के इस स्टूडेंट्स ने ऐसी चाय दुकान खोली जो आज भारत में सबसे ज्यादा प्रचलित है।

चाय दुकान खोलने से पहले रेस्टोरेंट में किया लंबे समय तक काम

एमबीए चायवाला के नाम से पहचाने जाने वाले प्रफुल्ल ने हाल ही में बताया कि जब उन्हें कॉलेज में एडमिशन नहीं मिला तब उन्होंने अपने खर्चे निकालने के लिए एक रेस्टोरेंट में काम करना शुरू कर दिया। थोड़े समय में ही उन्हें इस बात का अंदाजा हो गया था कि रेस्टोरेंट की कमाई से उनकी आजीविका नहीं चलेगी और इसी वजह से पढ़ाई के नाम पर उन्होंने अपने पिता से ₹10000 मांगे। अपने माता-पिता को बिना बताए ही उन्होंने अपना यह चाय का स्टार्टअप लगा दिया और देखते ही देखते वह कई महीनों तक आपने चाय को फ्री में लोगों को पिलाते रहे। अलग आइडिया और अलग नाम की वजह से देखते ही देखते प्रफुल्ल कि यह चाय दुकान बहुत तेजी से चलने लगी और देखते ही देखते प्रफुल्ल एमबीए चायवाला के नाम से पहचाने जाने लगे और आज पूरे भारत में उनके 200 से भी ज्यादा आउटलेट खुल चुके हैं जिसकी वजह से उनका करोड़ों का टर्नओवर हो चुका है।

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -spot_img