नई दिल्ली. यदि आप 16 फरवरी से देश के राष्ट्रीय राजमार्गों (National highway) पर यात्रा करने वाले हैं तो यह खबर आपके मतलब की है. अब भारत के राष्ट्रीय राजमार्गों के 720 से अधिक टोल प्लाजा (Toll Plaza) पर फास्टैग (FASTag) भुगतान का विकल्प अनिवार्य कर दिया गया है. अब आप अगर राष्ट्रीय राजमार्गों के टोल प्लाजा को पार कर रहे हैं तो आपको अपनी कार के लिए FASTag की आवश्यकता अनिवार्य हो जाएगी. केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्रालय ने इसके लिए नोटिफिकेशन जारी कर दिया है. अब टोल प्लाजा पर नकद भुगतान पूरी तरह से बंद कर दिया गया है. यदि आपके वाहन पर 15 फरवरी की आधी रात के बाद से फास्टैग नहीं होगा तो अब आपको दोगुना टोल टैक्स देना होगा. 15 फरवरी को रात 12 बजे से पहले ही आप नकद भूगतान कर टोल प्लाजा पार कर सकते हैं.

सड़क परिवहन मंत्री का यह कहना है
केंद्रीय सड़क और परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने पिछले दिनों ही कहा था कि देश के सभी टोल प्लाजा पर अब फास्टैग अनिवार्य होगा. गडकरी ने साफ कह दिया था कि अब सरकार फास्टटैग की डेडलाइन बढ़ाने वाली नहीं है. ऐसे में जिन लोगों ने अभी तक अपने वाहनों पर फास्टैग नहीं लगाया है, वे जल्द से जल्द अपने वाहनों पर फास्टैग लगा लें नहीं तो आने वाले दिनों में उनकी मुश्किल बढ़ने वाली हैं.

अब 15 फरवरी के बाद से सभी टोल प्लाजा पर फास्टैग अनिवार्य हो जाएगा. मंत्री ने साफ कह दिया था कि अगर कुछ लोग सोच रहे हैं कि सरकार एक बार फिर फास्टैग की आखिरी तारीख को बढ़ा देगी तो जान लें कि सरकार अब फास्टैग की डेडलाइन को नहीं बढ़ा रही है.’

डिजिटल भुगतान को मिलेगा अब बढ़ावा
गौरतलब है कि केंद्र सरकार डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने के लिए अब टोल प्लाजा पर नकद भुगतान बंद कर दिया है.अब FASTag के जरिए ही लोग टोल प्लाजा पर भुगतान कर सकेंगे.इस समय कुछ बैंकों के नाम से FASTags जारी किए जा रहे हैं, जिनमें एचडीएफसी बैंक, एक्सिस बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, कोटक बैंक, पेटीएम पेमेंट्स बैंक और आईडीएफसी बैंक शामिल है.

FASTag क्या है?
FASTag इलेक्ट्रॉनिक भुगतान का एक तरीका है, जिसे नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) द्वारा विकसित किया गया है. RFID तकनीक का उपयोग कर वाहन को बिना रुके ही टोल प्लाजा पार करने पर भुगतान हो जाता है. FASTag एक स्टिकर है जो आपकी कार के विंडशील्ड से अंदर से जुड़ा होता है. यह रेडियो-फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (आरएफआईडी) बारकोड के माध्यम से आपके वाहन के पंजीकरण विवरण के साथ जुड़ा हुआ है. जैसे ही आपका वाहन गुजरता है तो आपके वाहन के लिए RFID कोड का पता लगाया जाता है. आपके प्रीपेड बैलेंस से टोल टैक्स कट जाता है. अब आपको बिना रुके ही काम हो जाएगा.

FASTag का क्या फायदा है?
राष्ट्रीय राजमार्ग शुल्क (दरों और संग्रह का निर्धारण) नियम 2008 के अनुसार टोल प्लाजा पर कुछ लेन हैं जो विशेष रूप से FASTag उपयोगकर्ताओं के लिए आरक्षित हैं. आपको रोकने की आवश्यकता नहीं पड़ती है. भारत भर में टोल प्लाजा पर स्वचालित डिजिटल भुगतान की ओर सरकार प्रयासरत है. बेहतर पारदर्शिता के लिए यह सुविधा सरकार शुरू की है. इससे टोल प्लाजा पर भीड़, प्रतीक्षा समय को कम करने के साथ ईंधन की बचत भी हो सकती है.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *