19.1 C
Delhi
Wednesday, November 30, 2022
No menu items!

‘संयुक्त राष्ट्र की आधिकारिक भाषाओं में हिंदी को शामिल करवाने के प्रयास जारी है’ बोले एस जयशंकर

- Advertisement -
- Advertisement -

EAM S Jaishankar: विदेश मंत्री एस जयशंकर प्रसाद ने गुरुवार (27 अक्टूबर) को कहा कि संयुक्त राष्ट्र में हिंदी को आधिकारिक भाषा के रूप में मान्यता दिलाने में पूर्ण रूप से प्रयास जारी हैं, हालांकि इस दिशा में कार्य प्रगति की और है, लेकिन इसमें अभी थोड़ा और समय लगेगा. उन्होंने कहा कि आप जानते होंगे कि संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक और सांस्कृतिक संगठन (UNESCO) में भी हिंदी का उपयोग किया जा रहा है. जहां तक ​​इसके मुख्यालय में हिंदी के उपयोग का संबंध है, हमारे पास उनके साथ एक समझौता ज्ञापन है, वे इसका उपयोग सोशल मीडिया और न्यूज़लेटर्स में अभी कर रहे हैं.

जयशंकर ने नई दिल्ली में एक कार्यक्रम में कहा कि इसे विस्तारित करने में अभी कुछ समय लगेगा. संयुक्त राष्ट्र की प्रक्रिया में एक भाषा को शामिल करना इतना आसान काम नहीं है. उन्होंने कहा कि इस पर काम किया जा रहा है, प्रगति भी हुई है और हमें उम्मीद है कि यह आगे बढ़ेगा.

- Advertisement -

अगले साल विश्व हिंदी दिवस की मेजबानी फिजी करने जा रहा है
विदेश मंत्री जयशंकर प्रसाद ने विदेश राज्य मंत्री वी. मुरलीधरन और फिजी के शिक्षा, विरासत और कला मंत्रालय की स्थायी सचिव अंजीला जोखान के साथ विश्व हिंदी दिवस के लोगो और वेबसाइट का भी शुभारंभ कियागया है विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को इस कार्यक्रम में कहा कि फिजी अगले साल 15-17 फरवरी, 2023 तक होने वाले 12वें विश्व हिंदी सम्मेलन की मेजबानी करने जा रहा है. तीन दिवसीय सम्मेलन फिजी शहर नाडी में आयोजित होगा ,

इस कार्यक्रम में बोलते हुए, फिजी के शिक्षा, विरासत और कला मंत्रालय की स्थायी सचिव अंजीला जोखान ने कहा कि फिजी को प्रतिष्ठित आयोजन की मेजबानी करने वाले प्रशांत क्षेत्र का पहला देश होने का सौभाग्य मिला है. उन्होंने भारत के साथ साझेदारी की सराहना भी की है .

“हम सौभाग्यशाली एवम गर्व महसूस कर रहे है’

फिजियन सचिव अंजीला जोखान ने कहा, “हम विश्व हिंदी सम्मेलन के लिए अगले वर्ष के मेजबान के रूप में भारत सरकार के नामित होने पर सम्मानित एवम गर्व महसूस कर रहे हैं, क्योंकि यह मंच हमें हमारे देश की प्रमुख भाषाओं में से एक हिंदी को बढ़ावा देने और मनाने का एक शानदार अवसर प्रदान करेगा. वास्तव में, फिजी धन्य महसूस करता है और इस प्रतिष्ठित आयोजन की मेजबानी करने वाला प्रशांत क्षेत्र का पहला देश होने का इसे सौभाग्य प्राप्त हुआ है. “

जोखान ने कहा कि, फिजी 15-17 फरवरी, 2023 तक इस कार्यक्रम की मेजबानी करने के लिए उत्सुक है. उन्होंने कहा कि, “हम अपने देश में इस महत्वपूर्ण कार्यक्रम की मेजबानी करने के लिए उत्सुक हैं. हम जानते हैं कि इसके लिए हमारे देश में कई देशों से भारतीय प्रवासी आएंगे और इससे हमारे देश के लोगों को परस्पर सहयोग और दोस्ती को बढ़ाने के भी नए अवसर मिलेंगे.”

- Advertisement -
Gorav Sharma
Gorav Sharma
गोरव शर्मा (Gorav Sharma) 26 वर्ष के हैं। वह रिपोर्टलुक डिजिटल (https://reportlook.com/ ) में बिजनेस डेस्क पर बतौर सब एडिटर अपनी सेवा दे रहे हैं। उनसे [email protected] पर संपर्क किया जा सकता है। वह बिजनेस जर्नलिज्म में 2 साल से ज्यादा का अनुभव रखते हैं। अपने करियर में वे बजट, ऑटो एक्सपो के साथ-साथ बिजनेस से जुड़े कई बड़े इवेंट कवर कर चुके हैं। वह नवलगढ़, राजस्थान के रहने वाले हैं। उन्होंने RU से बिज़नेस एंड इकोनॉमिक्स में मास्टर्स किया है
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -spot_img