9.6 C
London
Wednesday, February 21, 2024

कम नहीं हो रही कंगना रनौत की मुश्किलें, कंगना की ‘Thalaivii’ पर छिड़ा विवाद

कंगना रनौत की 'थलाइवी' (Thalaivii) दर्शकों को काफी पसंद आई है. जो लोग जयललिता के बारे में नहीं जानते, शायद वह गलत तथ्यों के बारे में पता न लगा पाएं, लेकिन उनकी पार्टी के नेता ने बताया कि कौन-कौनसे सीन फिल्म में गलत दिखाए गए हैं.

- Advertisement -spot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_img

बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत (Kangana Ranaut) की फिल्म ‘थलाइवी’ (Thalaivii), जो तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जे. जयललिता (Tamil Nadu Former CM J. Jayalalithaa) की जिंदगी पर आधारित है, वह कल यानी 10 सितंबर को ही रिलीज हुई है और अब इस फिल्म को लेकर एक नया विवाद खड़ा हो गया है. फिल्म के रिलीज होने के बाद AIADMK (All India Anna Dravida Munnetra Kazhagam) के नेता और पूर्व मंत्री डी. जयकुमार (D. Jayakumar) ने कहा कि जयललिता की बायोपिक में कुछ तथ्य गलत दिए गए हैं.

एएल. विजय द्वारा निर्देशित और अरविंद स्वामी द्वारा अभिनीत फिल्म थलाइवी जयकुमार ने शुक्रवार को चेन्नई के थिएटर में देखी. यहां फिल्म देखने के बाद जयकुमार ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि वैसे तो फिल्म को बहुत ही अच्छे से बनाया गया है, लेकिन इसमें कुछ सीन जो पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता और AIADMK के संस्थापक और नेता दिवंगत एमजी रामचंद्रन पर फिल्माए गए हैं, उनके तथ्य गलत हैं.

MGR ने कभी नहीं की थी मुख्यमंत्री बनने की मांग

फिल्म में एक सीन है, जहां पर सीएन अन्नादुरई के नेतृत्व में बनने वाली डीएमके पार्टी की पहली सरकार में एमजी रामचंद्रन (MGR) मुख्यमंत्री बनने की मांग करते हैं. जयकुमार ने इस सीन को लेकर कहा कि एमजीआर ने कभी भी उस स्थान को पाने की मांग नहीं की थी. रिपोर्ट्स के अनुसार, जयकुमार ने कहा कि अन्नादुरई चाहते थे कि एमजीआर मंत्री बनें, लेकिन उन्होंने खुद ही इसके लिए मना कर दिया था और फिर बाद में उन्हें स्मॉल सेविंग्स डिपार्टमेंट का डिप्टी चीफ बना दिया गया था, जो एक नई पोस्ट थी.

1969 में जब अन्नादुरई का निधन हो गया, तब एमजीआर ने ही करुणानिधी को मुख्यमंत्री बनाने के लिए उनके नाम का प्रस्ताव रखा था. AIADMK के ऐलान से पहले 1972 में एमजीआर और करुणानिधी ने अपने-अपने रास्ते अलग कर लिए थे. इसके अलावा जयकुमार ने फिल्म के एक सीन को और गलत बताया. जयकुमार ने कहा कि फिल्म में एक सीन है जहां पर जयललिता को राजीव गांधी और इंदिरा गांधी से बिना एमजीआर को पता लगे संपर्क करते हुए दिखाया गया है. उन्होंने कहा कि यह बिल्कुल गलत है, क्योंकि वह कभी भी अपने नेता के खिलाफ नहीं गईं.

उन्होंने आगे कहा कि फिल्म में कुछ ऐसे सीन भी हैं, जहां पर एमजीआर को जयललिता को कम महत्व देते हुए दिखाया गया है, यह भी सही नहीं है. जयकुमार ने कहा कि अगर फिल्म से ये सीन निकाल दिए जाएं, तो यह फिल्म बहुत कामयाब होगी.

- Advertisement -spot_imgspot_img
Jamil Khan
Jamil Khan
जमील ख़ान एक स्वतंत्र पत्रकार है जो ज़्यादातर मुस्लिम मुद्दों पर अपने लेख प्रकाशित करते है. मुख्य धारा की मीडिया में चलाये जा रहे मुस्लिम विरोधी मानसिकता को जवाब देने के लिए उन्होंने 2017 में रिपोर्टलूक न्यूज़ कंपनी की स्थापना कि थी। नीचे दिये गये सोशल मीडिया आइकॉन पर क्लिक कर आप उन्हें फॉलो कर सकते है और संपर्क साध सकते है

Latest news

- Advertisement -spot_img

Related news

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here