ज्ञानवापी मस्जिद में शिवलिंग मिलने पर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि बीजेपी कुछ भी कर सकती है और करा सकती है. एक समय रात के अंधेरे में अयोध्या में मूर्तियां रखवा दी गई थीं.

सपा प्रमुख ने कहा, ‘हमारे हिंदू धर्म में यह है कि कहीं पर भी पत्थर रख दो, एक लाल झंडा रख दो, पीपल के पेड़ के नीचे तो मंदिर बन गया. यह कोर्ट का मामला है. बीजेपी जान-बुझकर ज्ञानवापी का मुद्दा उठा रही है ताकि हम-आप असली मुद्दों से बहक जाएं. बीजेपी अपनी बड़ी-बड़ी साजिशों को छुपाने के लिए ज्ञानवापी का मुद्दा बढ़ा रही है.’

अखिलेश यादव ने कहा, ‘उम्मीद है कि सुप्रीम कोर्ट 1991 के कानून का ध्यान रखेगा. अंग्रेजों ने जिस तरह डिवाइड एंड रुल किया था. वैसे ही बीजेपी कर रही है. धर्म और जात के नाम पर बांटकर के ध्यान हटा रही है.

वाराणसी कोर्ट में आज नहीं सुनवाई

बता दें कि वाराणसी कोर्ट में आज ज्ञानवापी को लेकर दो मामलों की सुनवाई होनी थी, लेकिन वकीलों की हड़ताल के चलते ये सुनवाई नहीं हो पाई. इस मामले में तीन महिलाओं की तरफ से याचिका दायर की गई है, जिसमें कहा गया है कि नंदी भगवान के सामने की दीवार तोड़कर सर्वे कराया जाए. वहीं दूसरी याचिका सरकारी वकील की तरफ से दायर की गई थी. जिसमें वजूखाने की व्यवस्था और मछलियों के लिए व्यवस्था की बात कही गई थी. फिलहाल कोर्ट ने सुनवाई की अगली तारीख का ऐलान नहीं किया है. बताया जा रहा है कि जल्द से जल्द कोर्ट में सुनवाई हो सकती है.

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

journalist | chief of editor and founder at reportlook media network

Leave a comment