17.3 C
London
Thursday, May 30, 2024

BCCI के नए फूड मेन्यू पर बवाल, नॉन वेज खाने में प्लेयर्स को मिलेगा केवल ‘हलाल’ मीट

- Advertisement -spot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_img

नई दिल्ली: भारत और न्यूजीलैंड के बीच 25 नवंबर से कानपुर में दो मैचों की टेस्ट सीरीज का पहला मैच खेला जाएगा. हाल ही में इस टेस्ट सीरीज के शुरू होने से पहले टीम इंडिया के खिलाड़ियों के लिए तैयार किए मेन्यू का खुलासा हुआ था. बीसीसीआई ने सख्ती से खिलाड़ियों को हलाल मीट ही खाने के लिए कहा है. जिसके बाद सोशल मीडिया पर इसी बात को लेकर हल्ला मच गया है. 

दरअसल हमारी सहयोगी वेबसाइट WION में स्पोर्ट्स तक के हवाले से ये कहा गया कि खिलाड़ियों की फिटनेस को देखते हुए बीसीसीआई ने फैसला किया है कि सभी को अब से हलाल मीट ही सर्व किया जाएगा. जबकि कोई भी खिलाड़ी बीफ नहीं खा सकेगा. इस बात को लेकर सोशल मीडिया पर अब जमकर लोग बीसीसीआई को खरा-खोटा सुना रहे हैं. लोगों का मानना है कि बीसीसीआई हलाल मीट को प्रमोट कर रहा है. 

सोशल मीडिया पर निकाली भड़ास 

जैसे ही लोगों के बीच ये खबर फैली कि बीसीसीआई खिलाड़ियों को हलाल मीच खाने के लिए फोर्स कर रहा है तभी से ट्विटर पर #BCCI_Promotes_Halal ट्रेंड हो रहा है. यहां लोग बीसीसीआई पर एक ही आरोप लगा रहे हैं कि वो हलाल मीट का सपोर्ट कर रही है. इस बात को लेकर कई तरह की प्रतिक्रिया सोशल मीडिया पर दी जा रही हैं. हिंदु सुमदाय की लोगों ने भी बीसीसीआई को निशाने पर लिया है. 

पोर्क और बीफ को रखा गया बाहर 

बीसीसीआई ने जो फूड मेन्यू जारी किया है उसमें खासतौर पर खिलाड़ियों को हलाल मीट खाने पर जोर डाला गया है. बीसीसीआई ने मेन्यू से बीफ और पोर्क को हटा दिया है. दरअसल ये फैसला इसलिए लिया गया है क्योंकि बायो-बबल में रहने से कुछ खिलाड़ियों को क्रिकेट खेलने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. वहीं लोगो का मानना है कि हलाल सर्टिफाइड खाने के जरिए इस्लामी कानून को प्राथमिकता दी जा रही है. साथ ही इससे हिंदू व सिख धर्म के लोगों की भावनाएं आहत होती हैं. बता दें कि टीम इंडिया पहले टेस्ट के लिए कानपुर के होटल लैंडमार्क टावर में रुकी हुई है.

- Advertisement -spot_imgspot_img
Jamil Khan
Jamil Khan
जमील ख़ान एक स्वतंत्र पत्रकार है जो ज़्यादातर मुस्लिम मुद्दों पर अपने लेख प्रकाशित करते है. मुख्य धारा की मीडिया में चलाये जा रहे मुस्लिम विरोधी मानसिकता को जवाब देने के लिए उन्होंने 2017 में रिपोर्टलूक न्यूज़ कंपनी की स्थापना कि थी। नीचे दिये गये सोशल मीडिया आइकॉन पर क्लिक कर आप उन्हें फॉलो कर सकते है और संपर्क साध सकते है

Latest news

- Advertisement -spot_img

Related news

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here