झारखंड के गुमला प्रखंड के अंबवा गांव की 25 वर्षीया जरीना खातून ने शुक्रवार को नागफेनी कोयल नदी में कूदकर आत्महत्या करने का प्रयास किया, लेकिन ग्रामीणों ने उसकी जान बचा ली. ग्रामीणों के अनुसार जरीना पहले नागफेनी नदी के पुल पर ट्रक के नीचे कूद गयी थी, लेकिन ड्राइवर की सूझबूझ से उसकी जान बच गयी.

जब युवती जरीना खातून ट्रक के नीचे नहीं आ सकी तो वह पुल के ऊपर रेलिंग पर चढ़ गयी और 100 फीट गहरी कोयल नदी में कूद गयी. युवती नदी की तेज धार में बहने लगी. यह देख आसपास के युवक नदी में कूद गये और आधा घंटे की मेहनत के बाद युवती को नदी से निकाला. अभी युवती को गुमला सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया है. जहां उसका इलाज चल रहा है. युवती ने क्यों आत्महत्या करने का प्रयास किया. इसका पता नहीं चला है, परंतु परिजन घरेलू विवाद बता रहे हैं.

जरीना खातून गुमला में पीएलवी (पारा लीगल वॉलेंटियर) है. जिला विधिक सेवा प्राधिकार की निगरानी में पीएलवी काम करते हैं. जरीना बेस्ट पीएलवी है. उसे उसके बेहतर काम के लिए पुरस्कृत भी किया गया है. जानकारी के अनुसार शुक्रवार की सुबह को जरीना गुमला कार्यालय जाने की बात कहकर घर से निकली थी. परंतु वह गुमला न आकर सिसई प्रखंड के नागफेनी गांव पहुंच गयी. ग्रामीणों के अनुसार जरीना नागफेनी पुल के ऊपर किसी से फोन पर बात कर रही थी. फोन में बात करते हुए अचानक वह गाड़ी के नीचे कूदने का प्रयास की. परंतु गाड़ी चालक ने जरीना को बचा लिया.

गाड़ी से बचने के बाद जरीना कोयल नदी के पुल से नदी में कूद गयी. स्थानीय लोगों ने जरीना को नदी से निकाला. पानी से निकलने के आधा घंटा बाद उसे होश आया. होश आने के बाद उसने अपने भाई मो अख्तर अंसारी का नंबर देकर उसको बुलाने की बात कही. सूचना मिलते ही अख्तर अंसारी नागफेनी पहुंचकर लोगों का धन्यवाद देते हुए जरीना को गुमला ले आया और उसे अस्पताल में भर्ती कराया.

भाई अख्तर ने बताया कि अपनी भाभी से कहासुनी होने पर सुबह घर से निकली थी. जानकारी के अनुसार शुक्रवार की दोपहर 12 बजे के करीब जरीना खातून कोयल पुल के ऊपर किसी से फोन पर काफी देर तक बात करती रही. बात करते हुए वह अचानक रांची की ओर से आ रहे ट्रक के आगे कूद गयी. किंतु ट्रक ड्राइवर की सूझबूझ से वह दुर्घटना होने से बचा लिया. ट्रक से बचते ही जरीना पुल से नदी में कूद गयी और नदी की तेज धारा में नीचे की ओर बहने लगी.

ट्रक ड्राइवर के चिल्लाने पर नदी में मछली मार रहे स्थानीय ग्रामीण अर्जुन साहू, शशि भूषण साहू, कुलदीप साहू, बलराम साहू, कांग्रेस सेवा दल के जयप्रकाश सिंह, गोविंद, छोटू, फलिंद्र, प्रेम साहू, नकूल साहू ने अपनी जान में खेलकर उसे बेहोशी की हालत में बाहर निकाला. पानी की तेज बहाव में वह बहते हुए जा रही थी. गनीमत रही कि साहसी लड़कों की हिम्मत से जरीना को अंबाघाघ से कुछ दूर पहले नदी से निकाल लिया गया. जिससे उसकी जान बच गयी.

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

The world is about to receive just the news it needs. My team and I believe that journalism can change the world and we are on a mission to ensure that this happens.

Leave a comment