रणवीर सिंह की अपकमिंग फिल्म ‘जयेशभाई जोरदार’ का ट्रेलर हाल ही में जारी किया गया. लेकिन अब यह ट्रेलर विवादों में आ गया है. वजह है ट्रेलर का एक सीन, जिसमें प्रसव से पहले अल्ट्रासाउंड तकनीक के जरिए बच्चे के लिंग का पता लगाया जाता है.इस सीन के खिलाफ बुधवार को दिल्ली उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर की गई. पीआईएल को कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश विपिन सांघी और न्यायमूर्ति नवीन चावला की अध्यक्षता वाली खंडपीठ के समक्ष पेश किया गया.

हालांकि फिल्म सेव गर्ल चाइल्ड नारे को बढ़ावा देने के लिए है और यह कन्या भ्रूण हत्या के खिलाफ है. याचिकाकर्ता के अनुसार, फिल्म का ट्रेलर अल्ट्रासाउंड तकनीक के गलत उपयोग का विज्ञापन करता है.

गैर सरकारी संगठन ‘यूथ अगेंस्ट क्राइम’ ने कहा, यह फिल्मी सीन लिंग चयन के लिए अल्ट्रासाउंड की तकनीक का खुले तौर पर उपयोग करने का विज्ञापन कर रहा है. धारा 3, 3 ए, 3 बी, 4, 6 और 22 के अनुसार और पीसी और पीएनडीटी अधिनियम के तहत इसकी अनुमति नहीं है. इसलिए तत्काल इस मामले को लेकर जनहित याचिका दायर की गई.

मनीष शर्मा द्वारा निर्मित ‘जयेशभाई जोरदार’ में ‘अर्जुन रेड्डी’ फेम शालिनी पांडे भी हैं, जो रणवीर के साथ बॉलीवुड के बड़े पर्दे पर डेब्यू कर रही हैं.

फिल्म का निर्देशन दिव्यांग ठक्कर ने किया है. यह फिल्म 13 मई को रिलीज हो रही है.

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

journalist | chief of editor and founder at reportlook media network

Leave a comment