पैगंबर मोहम्मद (peace be upon him) के खिलाफ नूपुर शर्मा की विवादित टिप्पणी को लेकर दिल्ली में गुरुवार को असदुद्दीन ओवैसी की एआईएमआईएम के कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया। यह विरोध उन्होंने जंतर-मंतर के पास किया और इस दौरान पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया।

रोचक बात यह है कि एआईएमआईएम की ओर से यह प्रदर्शन तब किया गया, जब गुरुवार दोपहर खबर आई कि ओवैसी के खिलाफ भड़काऊ भाषण देने को लेकर मामला दर्ज कर लिया गया है।

वहीं, पैगंबर मोहम्मद (peace be upon him) के खिलाफ विवादित टिप्पणी को लेकर बीजेपी से निष्कासित नवीन कुमार जिंदल ने कहा है कि उन्हें लगातार धमकियां मिल रही हैं। इस बीच, उन पर मानसिक दबाव तो है। साथ ही परिवार पर भी प्रेशर है। ये बातें उन्होंने गुरुवार (नौ जून, 2022) को एक हिंदी चैनल से बातचीत के दौरान कहीं।

पार्टी के एक्शन पर सवाल पूछे जाने पर उन्होंने कहा- मेरी इस मसले पर कोई टिप्पणी नहीं है। मुझे इस बाबत चर्चा नहीं करनी है। देश के लिए नरेंद्र मोदी और अमित शाह ने जो किया है, वह इस धरती पर किसी राजनेता ने आज तक नहीं किया। देश की रक्षा के लिए अगर कोई बलिदान होता है, तो उसके लिए परवाह नहीं करनी चाहिए।

इससे पहले, दिल्ली पुलिस ने बुधवार को कहा कि उसने कुछ लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है जो कथित तौर पर नफरत भरे संदेश फैला रहे हैं, विभिन्न समूहों को उकसा रहे हैं और ऐसी स्थिति पैदा कर रहे हैं जो शांति व्यवस्था को नुकसान पहुंचा सकती है। 

पुलिस ने बताया कि विशेष प्रकोष्ठ की ‘इंटेलीजेंस फ्यूजन एंड स्ट्रेटजिक ऑपरेशन’ (आईएफएसओ) इकाई की ओर से दर्ज प्राथमिकी में नवीन कुमार जिंदल, शादाब चौहान, सबा नकवी, मौलाना मुफ्ती नदीम, अब्दुर रहमान और गुलजार अंसारी के नाम हैं। आईएफएसओ के पुलिस उपायुक्त के पी एस मल्होत्रा ने कहा कि प्राथमिकी अलग-अलग धर्मों के लोगों के खिलाफ दर्ज की गई है।

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

journalist | chief of editor and founder at reportlook media network

Leave a comment