शादी के 7 साल बाद एक साथ 5 बच्चों की मां बनी रेशमा, मगर फिर सूनी हो गई गोद 

अजब गजबशादी के 7 साल बाद एक साथ 5 बच्चों की मां बनी रेशमा, मगर फिर सूनी हो गई गोद 

करौली. शादी के सात साल बाद पहली बार मां बनने वाली रेशमा के पांचों बच्चों की मौत (Reshma’s 5 children died) हो गई है. रेशमा ने सोमवार को सुबह एक साथ पांच बच्चों को जन्म दिया था. रेश्मा के प्री-मैच्योर डिलीवरी (Pre-mature delivery) हुई थी. ये बच्चे समय पूर्व सात माह में हो गये थे. लिहाजा शारीरिक रूप से पांचों बच्चे काफी कमजोर थे. उन्हें बेहतर इलाज के लिये जयपुर रेफर भी किया गया था लेकिन बदकिस्मती से उनमें से कोई भी नहीं बच पाया. इनमें तीन बच्चों की मौत जयपुर शिफ्ट करते समय करौली में ही हो गई थी. जबकि चौथे ने जयपुर पहुंचने से पहले दम तोड़ दिया. वहीं पांचवें की जयपुर पहुंचने के बाद मौत हो गई.

शादी के सात साल बाद बड़ी मुश्किल से मां बनी रेशमा की गोद एक फिर से सूनी हो गई है. करौली के मासलपुर के पिपरानी गांव निवासी रेशमा ने सोमवार को करौली के एक निजी अस्पताल में पांच बच्चों को जन्म दिया था. इनमें दो लड़के और तीन लड़कियां थी. बड़े इंतजार के बाद हुये बच्चों के कारण रेशमा के परिवार में खुशियां छा गई थी. लेकिन उनकी यह खुशी कुछ घंटे ही रह पाई. नवजात बच्चों की कमजोर हालत को देखते हुये बेहतर इलाज के लिये उन्हें जयपुर रेफर किया गया था.

पांचों बच्चों का वजन 300 से 660 ग्राम के बीच था
रेशमा के पांचों बच्चों का वजन 300 से 660 ग्राम के बीच था. नवजात बच्चों की कमजोर हालात को देखते हुये पहले उन्हें करौली में ही मातृ शिशु इकाई स्थित एसएनसीयू वार्ड में भर्ती कराया गया था. कम वजन के कारण नवजात बच्चों का सरवाइव करना मुश्किल था. इसलिये अच्छे ट्रीटमेंट के लिये उन्हें वहां से तत्काल जयपुर के लिये रेफर कर दिया गया था. लेकिन उनमें से एक भी बच्चा नहीं बच पाया.

परिवार की खुशियां बदली मातम में
बहरहाल शादी के सात साल बाद कुछ घंटों के लिये मातृत्व का सुख लेने वाली रेशमा की गोद एक बार फिर सूनी हो गई है. उस पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है. नवजात बच्चों की मौत के बाद रेशमा के परिवार में कल तक मनाया जा रहा जश्न मातम में बदल गया है. रेशमा का पति अश्क अली केरला में मार्बल फिटिंग का काम करता है. रेशमा का स्वास्थ्य ठीक बताया जा रहा है.

Check out our other content

Check out other tags:

Most Popular Articles