10.9 C
London
Thursday, February 29, 2024

अफगानिस्‍तान पर तालिबान की पकड़ हो रही मजबूत, जरांज के बाद शेबेरगन पर भी किया कब्जा, छुड़ाए 700 सैनिक

- Advertisement -spot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_img

काबुल. तालिबान (Taliban) ने अफगानिस्‍तान (Afghanistan) पर अपनी पकड़ और मजबूत कर ली है. तालिबान के लड़ाकों ने अफगानिस्‍तान की सेना से एक और प्रांतीय राजधानी को छीनकर उस पर कब्‍जा कर लिया है. अफगान मीडिया के मुताबिक दक्षिण निरमोज प्रांत (Nirmoz Province) की राजधानी जरांज (Zaranj) पर कब्‍जा करने के बाद अब तालिबान के लड़ाके जावजान प्रांत (Javazan province) की राजधानी शेबेरगन (Sheberghan) में घुस चुके हैं. उन्‍होंने शेबेरगन में हमला कर वहां की सरकारी जेलों में बद सभी कैदियों को रिहा कर दिया है.

अफगान मीडिया के मुताबिक सांसद मोहम्‍मद करीब जावजानीने बताया कि जावजान प्रांत के 10 में 9 जिलों पर तालिबान के लड़ाकों ने कब्‍जा जमाया है और राजधानी शेबेरगन में भी वह घुस आए हैं. अफगान सरकार ने भी इस बात की पुष्टि की है कि शेबरगन में तालिबान के लड़ाके घुस आए हैं. हालांकि सरकार ने कहा है कि तालिबान ने अभी तक शेबेरगन पर पूरी तरह से कब्जा नहीं किया है.

बता दें कि तालिबान के लड़ाकों ने दक्षिण-पश्चिमी नीमरोज प्रांत की राजधानी जारांत पर कब्‍जा कर लिया है. सरकार ने दावा किया है कि अफगान की सेना इस इलाके को तालिबान के लड़ाकों से खाली कराने की हर मुमकिन कोशिश कर रही है. इस बीच तालिबान ने अफगान सरकार को चेतावनी देते हुए कहा है कि यह तो शुरुआत है. हम आगे और भी प्रांतों पर कब्‍जा करते रहेंगे. तालिबान के एक कमांडर ने कहा कि जरांज का सामरिक महत्व बहुत ज्यादा है, क्योंकि इसकी सीमा ईरान के साथ सटी हुई है.
अफगान राजदूत ने कहा पाकिस्‍तान कर रहा तालिबान की मदद
बता दें कि संयुक्त राष्ट्र में अफगानिस्तान के राजदूत ने सुरक्षा परिषद को बताया कि तालिबान को पाकिस्तान से सुरक्षित पनाहगाह, जंगी मशीनों तक सुविधाओं की आपूर्ति और रसद लाइन की सुविधा मिल रही है. उन्होंने कहा कि इससे उनके देश में युद्ध को समाप्त करने के लिए पाकिस्तान के साथ एक सहयोगात्मक संबंध स्थापित करने की दिशा में विश्वास और कम हो रहा है.

- Advertisement -spot_imgspot_img
Jamil Khan
Jamil Khan
जमील ख़ान एक स्वतंत्र पत्रकार है जो ज़्यादातर मुस्लिम मुद्दों पर अपने लेख प्रकाशित करते है. मुख्य धारा की मीडिया में चलाये जा रहे मुस्लिम विरोधी मानसिकता को जवाब देने के लिए उन्होंने 2017 में रिपोर्टलूक न्यूज़ कंपनी की स्थापना कि थी। नीचे दिये गये सोशल मीडिया आइकॉन पर क्लिक कर आप उन्हें फॉलो कर सकते है और संपर्क साध सकते है

Latest news

- Advertisement -spot_img

Related news

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here