नई दिल्ली. दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में किसानों की ट्रैक्टर परेड (Kisan Tractor Rally Violence) के दौरान हुई हिंसा के संबंध में अभी तक 22 प्राथमिकियां दर्ज की हैं. अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी देते हुए बताया कि हिंसा में 300 से अधिक पुलिस कर्मी घायल हुए हैं. इसके साथ ही पुलिस ने करीब 9 नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है. दिल्ली हिंसा को लेकर दिल्ली पुलिस ने जो एफआईआर की है उसमें  आरोप है कि पुलिस द्वारा ट्रैक्टर रैली के लिए जो एनओसी जारी की थी, उनका पालन नहीं हुआ.

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार स्वराज अभियान के नेता योगेंद्र यादव के खिलाफ भी दिल्ली पुलिस ने मामला दर्ज किया है. हालांकि यह एफआईआर किन धाराओं में दर्ज की गई है, समाचार लिखे जाने तक इसकी जानकारी नहीं हो सकी थी.

समाचार एजेंसी ANI के अनुसार दिल्ली पुलिस की एफआईआर में किसान ट्रैक्टर रैली के संबंध में जारी एनओसी के उल्लंघन के लिए किसान नेताओं दर्शन पाल, राजिंदर सिंह, बलबीर सिंह राजेवाल, बूटा सिंह बुर्जगिल और जोगिंदर सिंह उग्रा के नामों का उल्लेख है. FIR में BKU के प्रवक्ता राकेश टिकैत के नाम का भी जिक्र है.

दूसरी ओर दिल्ली पुलिस ने शहर में किसान ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा के सिलसिले में 200 लोगों को हिरासत में लिया दिल्ली पुलिस ने कहा कि जल्द ही उन्हें गिरफ्तार किया जाएगा.इसके साथ ही पुलिस ने दिल्ली वेस्टर्न ज़ोन में 93 लोगों को गिरफ्तार भी किया है.

इससे पहले बुधवार को दिल्ली पुलिस ने हिंसा को लेकर IPC की धारा 395 (डकैती) ,397 (डकैती, चोरी या किसी को नुकसान पहुंचाने की मंशा से हमला करना) , 120 बी(आपराधिक साजिश की सजा) और अन्य धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज की. पुलिस ने बताया कि किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान दिल्ली में लाल किले पर हुई हिंसा के संबंध में FIR दर्ज की गई है. मामले की जांच क्राइम ब्रांच करेगी.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *