15.5 C
London
Sunday, May 26, 2024

गुरुग्राम में जुमे की नमाज में खलल डालने वाले 7 लोग लिए गए हिरासत में

- Advertisement -spot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_img

हरियाणा (haryana) के गुरुग्राम (gurugram) में नारे लगाकर जुमे (शुक्रवार) की नमाज़ में खलल डालने की कोशिश के आरोप में सात लोगों को हिरासत में लिया गया है. पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि शांति बनाए रखने के लिए एहतियाती उपाय के तहत सेक्टर 37 से कुछ लोगों को हिरासत में लिया गया है. कुछ हिंदू संगठनों के कई सदस्य उस खुले स्थान पर जमा हो गए और ‘भारत माता की जय’ और ‘जय श्री राम’ के नारे लगाने लगे. जहां मुस्लिम समुदाय के लोग जुमे की नमाज़ अदा करने के लिए आ रहे थे.

नारेबाज़ी जारी रहने और शांति भंग होने की आशंका को देखते हुए पुलिस ने सात लोगों को हिरासत में ले लिया है. इस तरह के आरोप हैं कि कुछ स्थानीय लोगों ने दिन में पार्किंग की समस्या का दावा करते हुए नमाज़ अदा करने वाले स्थान के पास ट्रक खड़े कर दिए थे.

गांव वालों ने किया था हवन

पिछले हफ्ते, कई गांवों के स्थानीय लोग विशिष्ट स्थान पर पहुंच गए थे. जो सेक्टर 37 थाने के पास है और हवन किया था और दावा किया था यह मुंबई आतंकी हमले के शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए किया जा रहा है. बता दें कि, एक महीने पहले, बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने गुरुग्राम के सेक्टर 12ए के उस स्थान पर गोवर्धन पूजा में शिरकत की थी जहां मुसलमान हर हफ्ते नमाज़ अदा करते हैं.

तीन साल पहले जिला प्रशासन ने मुसलमानों को जुमे की नमाज़ पढ़ने के लिए शहर में 37 स्थान निर्दिष्ट किए थे. इसके बाद कुछ हिंदू समूहों ने प्रदर्शन किया था. कुछ महीने पहले खुले स्थान पर नमाज़ पढ़ने के खिलाफ एक समूह ने विरोध शुरू किया था जिसके बाद पिछले कई हफ्ते से शुक्रवार को प्रदर्शन हो रहे हैं.

खुले में नमाज पढ़ने पर गृह मंत्री ने कही ये बात

खुले में नमाज पढ़ने पर हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने भी साफ कहा है कि सबको अपने धार्मिक आयोजन अपने-अपने धार्मिक स्थानों के अंदर ही करने चाहिए, रास्तों पर बिना प्रशासन की अनुमति के किसी को भी धार्मिक आयोजन करने से खुद को बचाना चाहिए.

- Advertisement -spot_imgspot_img
Jamil Khan
Jamil Khan
जमील ख़ान एक स्वतंत्र पत्रकार है जो ज़्यादातर मुस्लिम मुद्दों पर अपने लेख प्रकाशित करते है. मुख्य धारा की मीडिया में चलाये जा रहे मुस्लिम विरोधी मानसिकता को जवाब देने के लिए उन्होंने 2017 में रिपोर्टलूक न्यूज़ कंपनी की स्थापना कि थी। नीचे दिये गये सोशल मीडिया आइकॉन पर क्लिक कर आप उन्हें फॉलो कर सकते है और संपर्क साध सकते है

Latest news

- Advertisement -spot_img

Related news

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here