गौशाला में मृत मिली 500 गाय, कांग्रेस का दावा बीजेपी नेत्री कर रही हड्डियों और चमड़े का व्यापार

मनोरंजनगौशाला में मृत मिली 500 गाय, कांग्रेस का दावा बीजेपी नेत्री कर रही हड्डियों और चमड़े का व्यापार

भोपाल के एक गौशाला में भारी संख्या में गायों को मरा पाया गया है। कांग्रेस का आरोप है कि यह गौशाला बीजेपी कार्यकर्ता का है। विपक्ष ने बीजेपी कार्यकर्ता पर गाय की हड्डियां और चमड़े का व्यापार चलाने का आरोप लगाया है।

भोपाल: मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) की राजधानी भोपाल (Bhopal) के पास बैरसिया कस्बे में रविवार को एक गौशाला में बड़ी तादात में गायें मृत पाई गईं हैं। इसके बाद गौशाला संचालक के खिलाफ प्राथमिकी (FIR) दर्ज की गई है और उन्हें पद से हटाते हुए उनके खिलाफ कार्रवाई के निर्देश जारी हुए हैं। इस खबर से इलाके में हड़कंप मच गया है। 

कांग्रेस ने लगाया बीजेपी पर आरोप

इस बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) ने दावा किया कि इस गौशाला में 500 से अधिक गायें मृत पाई गई हैं। सिंह के मुताबिक, इस गौशाला का संचालन एक भाजपा नेत्री करती हैं। मामले को गंभीरता से लेते हुए जिला प्रशासन ने गौशाला संचालक को तुरंत हटाने के निर्देश दिए हैं। 

अधिकारियों ने की कार्रवाई

एक सरकारी बयान के मुताबिक भोपाल के जिलाधिकारी अविनाश लवानिया ने गौशाला का निरीक्षण किया और गायों की मौतों के मामले में संज्ञान लेते हुए जनपद सीईओ बैरसिया को गौशाला का रिसीवर नियुक्त किया है। 

बयान के मुताबिक, ‘लवानिया ने विगत कई दिनों में मृत गायों के शवों को एक जगह गलत तरीके से एकत्रित करने और सही से क्रियाकर्म नहीं करने पर सब डिवीजनल मजिस्ट्रेट (एसडीएम) बैरसिया को गौशाला संचालक के विरुद्ध कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।’ इसके साथ ही गौशाला की मृत गायों के शवों का उचित रीति से अंतिम संस्कार करने को कहा गया है. 

संचालक के खिलाफ मामला हुआ दर्ज

गौशाला संचालक के खिलाफ बैरसिया पुलिस थाने में कल प्राथमिकी दर्ज की गई। जिलाधिकारी ने पशुपालन विभाग को निर्देश दिए कि सभी जीवित गायों का स्वास्थ्य परीक्षण किया जाए और कोई खास बीमारी के लक्षण मिलने पर विशेष उपचार की व्यवस्था की जाए। इसके साथ ही निरीक्षण के दौरान निर्देश दिए कि गायों की मौत का कारण जानने के लिए कुछ गायों के शवों का परीक्षण कराया जाए।

पशुपालन विभाग के अधिकारियों को जांच का दिया गया आदेश

लवानिया ने पशुपालन विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि जिले में सभी गौशालाओं का निरीक्षण किया जाए, गायों के आहार की व्यवस्था के लिए भी अधिकारी इसका परीक्षण करें और स्थानीय लोगों को जोड़कर इसकी व्यवस्था सुचारु बनाएं। सभी गौशालाओं में गायों के स्वास्थ्य परिक्षण के लिए विशेष शिविर लगाए, गायों की आकस्मिक मौत होने पर तुरंत इसकी जांच करें और इसकी सूचना संबंधित एसडीएम को सौंपे।

मौत को लेकर सियासत हुई तेज

इस बीच वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय ने कल एक ट्वीट कर इस मसले पर कहा – ‘भोपाल जिले के बैरसिया में कई साल से भाजपा नेत्री निर्मला देवी शांडिल्य द्वारा संचालित गौशाला में गाय की हड्डी और चमड़े का व्यापार चला हुआ था। आज 500 से अधिक गाय मृत पाई गईं। मैं शासन से निम्न मांग करता हूं कि गौशाला के संचालक मंडल पर गौ हत्या का प्रकरण दर्ज किया जाए।’

आपको बता दें कि काशी में बोले पीएम मोदी ने कहा था, ‘गाय कुछ लोगों के लिए गुनाह हो सकती है, हमारे लिए माता है।’

इस पर दिग्विजय ने आगे कहा – ‘क्या शांडिल्य चमड़े और हड्डियों का व्यापार कर रहीं थीं? इसकी भी जांच होनी चाहिए। इस गौशाला को पिछले वर्षों में मिले अनुदान की भी जांच कराई जानी चाहिए।’ उन्होंने आगे लिखा – ‘बैरसिया में कथित रूप से भाजपा नेत्री शांडिल्य द्वारा संचालित गौशाला में अनगिनत गायों की मौत। डरा देने वाला मंजर। गायों की लाश ही लाश दूर-दूर तक।’

दिग्विजय सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) को तत्काल जांच के आदेश देना चाहिए। 

बेजेपी ने दिग्विजय सिंह पर ही खड़े किए सवाल

दिग्विजय सिंह के आरोपों के बारे में पूछे जाने पर प्रदेश भाजपा प्रवक्ता पंकज चतुर्वेदी ने कहा – ‘दिग्विजय सिंह को कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बारे में बोलना चाहिए, जिन्होंने केरल में सड़क पर गोमांस खाया। भाजपा गायों के संरक्षण के लिए प्रतिबद्ध है, जबकि कांग्रेस के दिग्गज इस मुद्दे पर केवल राजनीति करते हैं। चतुर्वेदी ने कहा कि जिला प्रशासन ने गौशाला संचालक के खिलाफ पहले ही कार्रवाई शुरू कर दी है और कानून के अनुसार आगे के कानूनी कदम उठाए जा रहे हैं।

Check out our other content

Check out other tags:

Most Popular Articles