11.1 C
London
Thursday, February 29, 2024

कर्ज की वजह से घर बेचने की तैयारी में थे मोहम्मद बावा, दो घंटे पहले लग गई एक करोड़ की लॉटरी 

- Advertisement -spot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_img

उत्तरी केरल के मंजेश्वर के मूल निवासी मोहम्मद बावा ने अपने रिश्तेदारों और बैंक से पचास लाख रुपये का कर्ज लिया था। उसे चुकाने के लिए उन्हें पैसों की सख्त आवश्यकता थी। उन्होंने ये बड़ी अपनी दो बेटियों की शादी और अचल संपत्ति के कारोबार में हुए नुकसान को समायोजित करने के लिए उधार ली थी। 

बावा इस कर्ज को चुकाने के लिए परेशान थे। लेकिन एक करोड़ की लॉटरी ने उनकी जिंदगी ही बदलकर रख दी है। अब उन्होंने अपना घर नहीं बेचने का फैसला लिया है। 

बावा ने संवाददाताओं को बताया, मैंने लॉटरी जीती। इसलिए अब इस घर को बेचने की कोई जरूरत नहीं है। जब हमें पुरस्कार मिलेगा तो सभी मुद्दों को सुलझा लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि बिजनेस में हुए नुकसान के कारण वह चिंता में थे। लेकिन सर्वशक्तिमान ने आखिरकार मुझे एक रास्ता दिखाया है। 

कर्ज के जाल से निकलने की उम्मीद में पचास पचास वर्षीय व्यक्ति ने रविवार दोपहर एक विक्रेता से केरल सरकार की फिफ्टी-फिफ्टी लॉटरी के टिकट खरीदे थे। 

पांच बच्चों के पिता ने कहा, रविवार की दोपहर साढ़े तीन बजे तक लॉटरी का परिणाम घोषित किया गया। सौभाग्य से यह पुरस्कार मुझे मिला। इससे पहले दिन खरीददारों ने हमें सूचित किया था कि वे अगले दिन शाम साढ़े पांच बजे तक मेरे घर के लिए एडवांस में देने आएंगे। 

बावा ने बताया, लेकिन जब वे आए तो यह घर उन लोगों से भरा हुआ था जिन्हें जैकपॉट के बारे में पता चला। खरीददारों ने भी कहा कि वे भी इस भाग्यशाली जीत से बहुत खुश हैं। बावा ने बताया कि वह लॉटरी टिकटों के नियमित खरीददार नहीं थे। 

उन्होंने कहा, मैं उस लॉटरी एजेंट को व्यक्तिगत रूप से जानता हूं, इसलिए जब वह मेरे घर से गुजरता ता तो वह मुझे कुछ टिकट देता था। मैंने यह विशेष टिकट बहुत तनाव में खरीदा था क्योंकि मुझे नहीं पता था कि मुझे क्या करना है। 

उन्होंने कहा कि कर्ज चुकाने के बाद वह बाकी की रकम गरीबों और जरूरतमंदों के लिए खर्च करना चाहते हैं। टैक्स में कटौती के बाद बावा को करीब 63 लाख रुपये मिलेंगे।

- Advertisement -spot_imgspot_img
Jamil Khan
Jamil Khan
जमील ख़ान एक स्वतंत्र पत्रकार है जो ज़्यादातर मुस्लिम मुद्दों पर अपने लेख प्रकाशित करते है. मुख्य धारा की मीडिया में चलाये जा रहे मुस्लिम विरोधी मानसिकता को जवाब देने के लिए उन्होंने 2017 में रिपोर्टलूक न्यूज़ कंपनी की स्थापना कि थी। नीचे दिये गये सोशल मीडिया आइकॉन पर क्लिक कर आप उन्हें फॉलो कर सकते है और संपर्क साध सकते है

Latest news

- Advertisement -spot_img

Related news

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here