भारत में भी छिपे हुए है कई अल जवाहिरी, ढूंढ़ना पड़ेगा : रवि किशन

मनोरंजनभारत में भी छिपे हुए है कई अल जवाहिरी, ढूंढ़ना पड़ेगा : रवि किशन

ओसामा बिन लादेन के मारे जाने के बाद अलकायदा की कमान अयमान अल-जवाहिरी संभाल रहा था। अयमान अल-जवाहिरी को अफगानिस्तान में अमेरिकी ड्रोन हमले में मार दिया गया है। भारत में भी अल-जवाहिरी की मौत की खूब चर्चा हो रही है। इसी बीच अब रवि किशन ने कहा है कि भारत में कई अल-जवाहिरी हैं।

अल-जवाहिरी की मौत पर क्या बोले रवि किशन?

रवि किशन ने मीडिया से बात करते हुए कहा है कि ‘अल-जवाहरी का मारा जाना एक बड़ी उपलब्धि है लेकिन ऐसे बहुत से अल-जवाहिरी हैं, जो हिंदुस्तान में छिपे हुए हैं। ऐसे कीड़े, जानवर लोग देश के लिए खतरा है। इन्हें खोज-खोज के मारना पड़ेगा। अल-जवाहिरी जैसे लोग जब एक मरते हैं तो सौ को पैदा करके जाते है। 

‘अल-जवाहिरी के मर जाने से नहीं खत्म होगा आतंकवाद’

गोरखपुर सांसद ने कहा कि ‘ये मत समझिये कि अल-जवाहिरी के मर जाने से आतंकवाद खत्म हो जायेगा। ये अपने पीछे 1000 हजार लोगों को ट्रेंड करके जाते हैं, जैसे ओसामा बिन लादेन बना कर गया था। हमें ऐसे अल-जवाहिरी को खोज खोजकर मारना पड़ेगा।’ सोशल मीडिया पर लोग अल जवाहिरी के इस बयान पर अपनी प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं।

राकेश तिवारी नाम के यूजर ने लिखा कि ‘रवि किशन के कहने से कुछ नहीं होने वाला है, सत्ता तो मोदी जी के हाथ में है।आज तक ये लोग मौलाना साद को तो खोज नहीं पाये,अल-जवाहिरी जैसो को ये क्या खाक खत्म कर पाएंगे। मोदी शाह की जोड़ी को तुष्टीकरण की नीति से प्यार हो गया है।’ अनुपम झा ने लिखा कि ‘इनकी सरकार है ८ वर्ष से, पूछिए क्यों नहीं मार रहे चुन चुन कर, चीन पर क्या कर रहे हैं?’

मोहमद उस्मान नाम के यूजर ने लिखा कि ‘मतलब अमित शाहऔर गृह मंत्रालय को खबर ही नहीं है कि भारत में आतंकी छिपे हैं ये तो मोदी जी का पोल खोल रहे हैं। नोटबंदी से आतंकवाद खत्म हो गया था फिर कहां से आ गए ये सब!’

बता दें कि अल-जवाहिरी ने 11 सितंबर 2001 को अमेरिका में हमला करने की साजिश रचने में ओसामा बिन लादेन की मदद की। अमेरिका ने जब लादेन को मार दिया तो उसके बाद अल-जवाहिरी ने उसकी विरासत संभाली थी। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने सोमवार को अल-जवाहिरी के मारे जाने की पुष्टि की है।

Check out our other content

Check out other tags:

Most Popular Articles