बिहार में राजनैतिक संकट, नीतीश ने बुलाई अहम बैठक कर सकते है नई सरकार का ऐलान : रिपोर्ट्स

मनोरंजनबिहार में राजनैतिक संकट, नीतीश ने बुलाई अहम बैठक कर सकते है नई सरकार का ऐलान : रिपोर्ट्स

बिहार में नया गठबंधन के आकार लेने और एनडीए में टूट की आहट साफ सुनाई दे रही है। सोमवार की सुबह से शाम तक सियासी गतिविधियां और विभिन्न दलों के नेताओं की प्रतिक्रियाओं से इस आहट को और बल मिला है। जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह और प्रदेश अध्यक्ष उमेश कुशवाहा ने मीडिया में जो प्रतिक्रिया दी है, उससे भाजपा के प्रति उनकी तल्खी साफ नजर आ रही है। वैसे तमाम दलों ने अपने प्रवक्ताओं और नेताओं को किसी भी तरह के बयान से परहेज करने की हिदायत दी है। राजद ने अपने प्रवक्ताओं का पैनल ही भंग कर दिया है। भाजपा के नेताओं ने भी चुप्पी साध रखी है।बिहार की सियासत में मंगलवार का दिन अहम होगा। मंगलवार को जदयू, राजद और हम ने विधायक दलों की बैठक बुलाई है। इन्हीं बैठकों में नये गठबंधन पर अहम फैसला होना है। अगर नया गठबंधन आकार लेगा तो इसका संख्या बल करीब दो तिहाई होगा। महागठबंधन में अभी राजद 79, कांग्रेस 19 और वामदल 16 सहित कुल 114 विधायक हैं तो जदयू व हम की संख्या 49 है। यह सभी मिलकर 163 विधायक होते हैं। राजद, जदयू, कांग्रेस और वामदलों को मिलाकर नये गठबंधन के आकार लेने की गूंज दिनभर सुनाई देती रही।

जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह ने कहा है कि मंगलवार की बैठक आरसीपी सिंह प्रकरण के बाद जो स्थिति बनी है, उसको लेकर बुलाई गई है। उन्होंने भाजपा के प्रति सवालिया लहजे में यह कहकर नाराजगी जताई कि केंद्रींय मंत्रिमंडल में जदयू का कौन नेता शामिल होगा, यह भाजपा तय करेगी? उन्होंने रविवार को यह भी कहा था कि बिहार में दूसरा चिराग पासवान बनाने का षड्यंत्र चल रहा था। उनका आशय यह था कि जिस तरह 2020 के विस चुनाव में चिराग पासवान ने अपने को पीएम नरेंद्र मोदी का हनुमान बताकर अकेले लड़ने का फैसला किया और इससे जदयू को भारी नुकसान हुआ, उसी तरह आरसीपी को खड़ाकर जदयू को कमजोर करने की साजिश हो रही थी।

वहीं, नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव बिहार की सियासत के नये आकार पर मंथन करते रहे। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा ने कहा कि ताजा हालात पर कांग्रेस नजर रख रही है और विधायकों को पटना बुलाया गया है। इस बीच नीतीश कुमार सोमवार को जनता के दरबार में मुख्यमंत्री कार्यक्रम में दोपहर तक रहे। उनके साथ भाजपा कोटे के दोनों उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद व रेणु देवी तथा स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय भी मौजूद रहे। जनता दरबार की समाप्ति के बाद नीतीश व तारकिशोर के बीच अकेले में देर तक बातचीत हुई। हालांकि वहां से निकलने के बाद किसी ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी।

जदयू की कुछ शर्तें: नीतीश और अमित शाह ने की बात

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की देश के गृहमंत्री अमित शाह से सोमवार की सुबह फोन पर बात भी हुई। हालांकि बातचीत क्या हुई और इसका फलाफल क्या निकला यह साफ नहीं है। सूत्रों के मुताबिक जदयू की कुछ शर्तें हैं। कयास यह भी लगाए जा रहे हैं कि भाजपा इन्हें मान लेती है तो भाजपा-जदयू की सरकार बनी भी रह सकती है।

कई भाजपा नेता दिल्ली गए

शाम में भाजपा नेता रविशंकर प्रसाद, उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन और बिहार भाजपा प्रभारी भीखू भाई दलसानिया दिल्ली गये। सूत्रों के मुताबिक दिल्ली में मंगलवार को एनडीए गठबंधन के गतिरोध पर भाजपा मंथन करेगी।

सीएम के फैसले का इंतजार

सूत्र यह भी बताते हैं कि भाजपा नीतीश के फैसले का इंतजार करेगी। देर शाम तारकिशोर प्रसाद के आवास पर भाजपा नेताओं की बैठक हुई। बैठक में डॉ. संजय जायसवाल, मंगल पांडेय, संजीव चौरसिया आदि नेता मौजूद थे।

अटकलें : नए सियासी गठबंधन का ब्लू प्रिंट तैयार

बहरहाल माना जा रहा है कि बिहार में नये गठबंधन का ब्लू प्रिंट तैयार हो गया है। राजद, जदयू, कांग्रेस और वामदल के शीर्ष नेताओं की ब्लू प्रिंट पर बातचीत हो चुकी है। माना जा रहा है कि जो भी होना है, वह सावन माह की समाप्ति के पहले अर्थात 12 अगस्त तक हो जाएगा। हालांकि जदयू और अन्य कोई भी दल अभी इसे स्वीकार करने को तैयार नहीं है कि नये गठबंधन पर कोई बातचीत हुई है। तमाम नेता यही कहते हैं कि वर्तमान सियासी हालात पर बैठकें बुलाई गई हैं।

Check out our other content

Check out other tags:

Most Popular Articles